डेमोक्रेटिक पार्टी की उपराष्ट्रपति पद की उम्मीदवार भारतवंशी सीनेटर कमला हैरिस ने बृहस्पतिवार को राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप पर निशाना साधते हुए कहा कि वह अमेरिकी जनता की भलाई में नाकाम रहे हैं और उन्होंने इस दिशा में पूरी तरह लापरवाही के साथ अनादर का प्रदर्शन किया है।
ट्रंप ने जनता की भलाई के प्रति अनादर दिखाया है : कमला हैरिस

-- शिव प्रसाद सिंह

डेमोक्रेटिक पार्टी की उपराष्ट्रपति पद की उम्मीदवार भारतवंशी सीनेटर कमला हैरिस ने बृहस्पतिवार को राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप पर निशाना साधते हुए कहा कि वह अमेरिकी जनता की भलाई में नाकाम रहे हैं और उन्होंने इस दिशा में पूरी तरह लापरवाही के साथ अनादर का प्रदर्शन किया है। हैरिस का कहना है-'डोनाल्ड ट्रंप अमेरिका के राष्ट्रपति के सबसे मौलिक और महत्वपूर्ण काम में विफल रहे हैं। वह अमेरिकी जनता के संरक्षण में नाकाम रहे हैं। 

ट्रंप ने जो दिखाया है, उसे हम कानून के पेशे में अमेरिकी जनता की भलाई के लिए पूरी तरह लापरवाही पूर्ण अनादर कहेंगे।' रिपब्लिकन पार्टी के राष्ट्रीय सम्मेलन में ट्रंप के राष्ट्रपति पद की उम्मीदवारी स्वीकार करने के भाषण से कुछ घंटे पहले अपने जोरदार संबोधन में हैरिस ने आरोप लगाया कि राष्ट्रपति की नीतियों में महामारी से अमेरिकी लोगों की जिंदगियों पर होने वाले खतरों को लेकर भी 'लापरवाही पूर्ण अनादर' दिखाया गया है। इससे हमारी अर्थव्यवस्था को जो नुकसान होगा, पीढिय़ों तक सुनियोजित नस्लवाद के शिकार रहे समुदायों का जो नुकसान होगा, हमारे रोजाना के जीवन में जो उथल-पुथल मचेगी, उसके बाद हममें से कई के बच्चों के लिए स्कूल जाना नामुमकिन होगा। सामान्य तरीके से और निश्चिंतता के साथ जीना असंभव होगा।' हैरिस ने कहा, 'उन्होंने कभी इस बात का अहसास ही नहीं किया कि कोई राष्ट्रपति अमेरिका को जाने और अनजाने खतरों से बचाने के लिए ईश्वर और देश की शपथ लेता है।

यह उसका कर्तव्य है। हमारी रक्षा करना उसकी बाध्यता है। फिर भी, वह दुखद तरीके से विफल रहे।' उन्होंने कहा, 'डोनाल्ड ट्रंप की अक्षमता नई बात नहीं है। यह हमेशा से दिखती रही है। लेकिन इस साल जनवरी में यह घातक हो गई। जब पूरी दुनिया पर खतरा पैदा करने वाला वायरस पहली बार सामने आया। ट्रंप ने खतरे को नकार दिया। जो बाइडेन ने सावधान किया था।' ट्रंप हमें कहते रहे कि चिंता करने की जरूरत नहीं है, चमत्कार होने जा रहा है, वायरस गायब हो जाएगा। लेकिन जो बाडेन ने कहा कि हमें एक योजना, एक राष्ट्रीय रणनीति की जरूरत है, एक राष्ट्रपति जो नेतृत्व करने का इच्छुक हो, हमारे राष्ट्र, हमारे बच्चों के लिए रोल मॉडल बनना चाहता हो।' उन्होंने आरोप लगाया कि जब अमेरिका चाहता था कि राष्ट्रपति चीन सरकार के प्रति सख्त रवैया अपनाएं तब ट्रंप सकते में आ गए थे। इस पर ट्रंप की ओर से अभी कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है।

पूरी स्टोरी पढ़िए