कोरोना वायरस (corona virus) के कारण बंद पड़ी मेट्रो सेवाओं को फिर से चलाने के लिए अनलॉक 4 (unlock 4) की गाइडलाइंस को गृह मंत्रालय ने मंजूरी दे दी है।
4 सितंबर से लखनऊ मेट्रो का ट्रायल, 7 से मिलेगी यात्रा की अनुमति, इन दस चीजों का रखना होगा विशेष ख्याल

Lucknow. कोरोना वायरस (corona virus) के कारण बंद पड़ी मेट्रो सेवाओं को फिर से चलाने के लिए अनलॉक 4 (unlock 4) की गाइडलाइंस को गृह मंत्रालय ने मंजूरी दे दी है। गृह मंत्रालय की मंजूरी मिलने के बाद दिल्ली के राज्यपाल एवं लखनऊ प्रशासन ने भी 7 सितंबर से मेट्रो को चलाने की अनुमति दे दी है। करीब साढ़े 5 महीने बंद पड़े मेट्रो को फिर से पटरी पर दौड़ने के लिए दोनों शहरों में तैयारियां शुरू कर दी गई है। नोएडा में मेट्रो का ट्रायल शुरू हो चुका है, जबकि लखनऊ में 4 सितंबर से मेट्रो का ट्रायल शुरू कर दिया जाएगा। मेट्रो की फंक्शनिंग और मानकों के परीक्षण के लिए ट्रायल किया जा रहा है। 

बीते 21 मार्च से बंद पड़े लखनऊ मेट्रो (Lucknow metro) का सफर 7 सितंबर से फिर से शुरू होने जा रहा है। मेट्रो में यात्रा करने के लिए मास्क लगाना जरूरी है। इसके साथ ही यात्रियों को थर्मल स्क्रीनिंग और आरोग्य सेतु एप की जांच के बाद ही यात्रा करने की अनुमति दी जाएगी। लखनऊ मेट्रो रेल कारपोरेशन (LMRC) के एमडी केशव कुमार ने बताया कि लखनऊ में 16 मेट्रो ट्रेनों का संचालन किया जाएगा। ये ट्रेनें चौधरी चरण सिंह इंटरनेशनल एयरपोर्ट से मुंशी पुलिया तक सभी 21 स्टेशनों पर रुकेंगी। 

मेट्रो का संचालन सुबह 6:00 बजे से लेकर रात 10:00 बजे तक किया जाएगा। यात्री स्मार्ट कार्ड या टोकन से यात्रा कर सकते हैं, जिनके पास स्मार्ट कार्ड नहीं है वे टोकन से यात्रा कर सकते हैं। टोकन अल्ट्रावायलेट रे द्वारा सेनेटाइज होगा। यात्रियों को सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन कराया जाएगा। यात्रियों को 5:30 मिनट के अंतराल पर स्टेशनों पर ट्रेन मिलेगी। 

बता दें कि कोरोना वायरस से पहले लखनऊ मेट्रो में रोजाना 70,000 यात्री यात्रा करते थे। एलएमआरसी पांच सितंबर को मेट्रो दिवस मनाता है, लिहाजा उस दिन मेट्रो बंद नहीं रखना चाहता है, इसलिए 4 सितंबर से ही परीक्षण के तौर पर सुबह 6:00 बजे से लेकर 7:10 बजे तक मेट्रो पटरियों पर दौड़ना शुरू हो जाएगी। सूत्रों के अनुसार रविवार बंदी के दिन भी मेट्रो का संचालन जारी रहेगा। 

इन 10 चीजों का रखना होगा विशेष ख्याल

  • स्मार्टफोन में आरोग्य सेतु एप रखना जरूरी, ना होने पर तत्काल डाउनलोड करवाया जाएगा
  • गो स्मार्ट कार्ड चलेगा लेकिन उसे टच नहीं करना होगा
  • दो यात्रियों के बीच एक सीट का गैप बना कर बैठना होगा
  • फेस मास्क लगाना जरूरी होगा
  • लिफ्ट में केवल 2 लोग ही आ जा सकते हैं
  • हर 4 घंटे में लिफ्ट के बटन और एक्सलेटर सेनीटाइज किए जाएंगे
  • ट्रेन का एक चक्कर पूरा होने के बाद सनराइज किया जाएगा
  • ट्रेन स्टेशन पर सोशल डिस्टेंसिंग का मॉनिटरिंग सीसीटीवी के द्वारा किया जाएगा
  • ट्रेन के ग्रैब, रेल्स, पोल, हैंडल्स और गेट को नियमित रूप से सेनेटाइज किया जाएगा। 
  • एक ट्रेन में कितने यात्री सफर कर रहे हैं, इंट्री गेट पर उनकी संख्या का गणना किया जाएगा।

पूरी स्टोरी पढ़िए