रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने आज नई दिल्ली में डायरेक्टोरेट जनरल नेशनल कैडेट कॉर्प्‍स (डीजीएनसीसी) मोबाइल प्रशिक्षण ऐप लॉन्‍च किया।
रक्षामंत्री ने एनसीसी प्रशिक्षण के लिए ऐप लॉन्‍च किया

-- शिव प्रसाद सिंह 

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने आज नई दिल्ली में डायरेक्टोरेट जनरल नेशनल कैडेट कॉर्प्‍स (डीजीएनसीसी) मोबाइल प्रशिक्षण ऐप लॉन्‍च किया। यह ऐप एनसीसी कैडेटों के देशव्यापी ऑनलाइन प्रशिक्षण के संचालन में सहयोग के लिए है।

कोविड-19 द्वारा थोपे गए प्रतिबंधों को देखते हुए, एनसीसी कैडेटों के प्रशिक्षण पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा था क्योंकि अधिकांशतः यह संपर्क आधारित ही होता है। चूंकि निकट भविष्य में विद्यालयों/महाविद्यालयों के खुलने की संभावना नहीं है, इसलिए आवश्यकता महसूस की जा रही थी कि डिजिटल माध्यम द्वारा एनसीसी कैडेटों को प्रशिक्षण दिया जाए। रक्षा मंत्री ने ऐप के लॉन्‍च करते हुए वीडियो कॉन्‍फ्रेसिंग के जरिये एनसीसी कैडेटों के साथ परस्पर बातचीत भी की और उनके प्रश्नों के उत्तर दिए।

 रक्षामंत्री ने उनकी सफलता की कामना की और उन्हें जीवन के सभी क्षेत्रों में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने को प्रेरित किया। एनसीसी कैडेटों को अपने संबोधन में रक्षामंत्री ने कहा कि यह ऐप उनके लिए डिजिटल तरीके से सीखने के लिए उपयुक्त होगा। इसके अलावा प्रत्यक्ष मुलाकातों पर प्रतिबंध के कारण कोविड-19 द्वारा पेश की गई चुनौतियों का सामना करने में कारगर होगा।

 उन्होंने कहा कि अगर कोई दृढ़ संकल्प और आत्म विश्वास के साथ आगे बढ़ता है तो वह सभी प्रकार की बाधाओं को पार कर अवश्य सफल होता है। राजनाथ सिंह ने एक लाख से अधिक उन  एनसीसी कैडेटों के योगदान की सराहना की जिन्होंने महमारी के खिलाफ लड़ाई में विभिन्न दायित्वों को पूरा किया। उन्होंने कहा कि एनसीसी एकता, अनुशासन, देश सेवा का मूल्य समावेशित करता है। एनसीसी के कई कैडेट आगे चलकर महान हस्ती बन गए जैसे-प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, एयर मार्शल अर्जन सिंह, खिलाड़ी अंजलि भागवत, पूर्व विदेश मंत्री श्रीमती सुषमा स्वराज और पूर्व रक्षा मंत्री श्री मनोहर पर्रिकर। इसके अतिरिक्त, रक्षा मंत्री खुद भी एक एनसीसी कैडेट रह चुके हैं।

डीजीएनसीसी मोबाइल प्रशिक्षण ऐप का उद्देश्य एनसीसी कैडेटों को एक प्लेटफार्म पर समस्त प्रशिक्षण सामग्री (सिलेबस, संक्षेपिका, प्रशिक्षण वीडियो एवं अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न) उपलब्ध कराना है। इस ऐप को एक प्रश्न विकल्प शामिल करने के द्वारा परस्पर संवादमूलक बनाया गया है। इस विकल्प का उपयोग करने के द्वारा कोई भी कैडेट प्रशिक्षण सिलेबस के बारे में प्रश्न पूछ सकता है और उसका उत्तर योग्य इंस्ट्रक्टरों के एक पैनल द्वारा दिया जाएगा।

यह ऐप निश्चित रूप से प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के डिजिटल इंडिया विजन की तर्ज पर एनसीसी प्रशिक्षण के ऑटोमेशन की दिशा में एक सकारात्मक कदम है और महामारी के इस चुनौतीपूर्ण समय में एनसीसी कैडेटों को प्रशिक्षण सामग्री की सरल सुविधा उपलब्ध कराने में सहायता करने में दीर्घकालिक भूमिका निभाएगा।

इस अवसर पर एनसीसी के महानिदेशक डॉ. अजय कुमार, लेफ्टिनेंट जनरल राजीव चोपड़ा एवं मंत्रालय के अन्य वरिष्ठ सिविल तथा सैन्य अधिकारी भी उपस्थित थे।

पूरी स्टोरी पढ़िए