साहित्य के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिए रामनगीना मौर्य को "लोकमत सम्मान-2020 प्रदान किया गया। यह पुरस्कार उन्हें 'होटल दयाल पैराडाइज, गोमतीनगर लखनऊ में आयोजित सम्मान समारोह में दिया गया है।
साहित्य के क्षेत्र में योगदान के लिए राम नगीना मौर्य को मिला लोकमत सम्मान

Lucknow. साहित्य के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिए रामनगीना मौर्य को "लोकमत सम्मान-2020 प्रदान किया गया। यह पुरस्कार उन्हें 'होटल दयाल पैराडाइज, गोमतीनगर लखनऊ में आयोजित सम्मान समारोह में दिया गया है। बता दें कि शिक्षा, महिला कल्याण, दिव्यांग, साहित्य, क्रीड़ा, जनसंचार, नवांकुर, कृषि, विज्ञान एवं पर्यावरण, कला एवं संस्कृति, ज्यूरी रिवार्ड्स आदि विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय योगदान के लिए विगत कई वर्षों से प्रतिष्ठित "लोकमत सम्मान" दिया जाता है। 

रामनगीना मौर्य उत्तर प्रदेश सचिवालय में विशेष सचिव के पद पर कार्यरत हैं। देश, विदेश की प्रतिष्ठित पत्र/पत्रिकाओं में उनकी रचनाएं प्रकाशित होती रही हैं। कविता, कहानी और व्यंग्य आदि के कई महत्वपूर्ण साझा संकलनों में भी समय-समय पर उनका रचनात्मक योगदान रहा है।

बता दें कि कर्मचारी साहित्य संस्थान उत्तर प्रदेश' ने राम नगीना मौर्य के प्रकाशित पहले बहुचर्चित कहानी संग्रह "आख़िरी गेंद" को वर्ष 2017-18 के लिए "डॉ. विद्यानिवास मिश्र पुरस्कार" (एक लाख रुपए) दिया गया था। उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान ने भी वर्ष-2017 के लिए "यशपाल पुरस्कार" (75,000 रुपए) दिया था।

वर्ष 2018 में प्रकाशित उनका दूसरा कहानी संग्रह "आप कैमरे की निगाह में हैं" और वर्ष 2019 में प्रकाशित उनका तीसरा कहानी संग्रह "सॉफ्ट कॉर्नर" भी साहित्यजगत में काफी चर्चा में रहा है। वर्ष 2020 में उनका चौथा कहानी संग्रह "यात्रीगण कृपया ध्यान दें" भी शीघ्र प्रकाशित होने वाला है।

पूरी स्टोरी पढ़िए