भारत और चीन (India China) के बीच लद्दाख (Ladakh) बॉर्डर पर जारी तनाव के बीच भारत ने चीन की हर चालबाजी से निपटने के लिए सेनाओं को हर मोर्चे पर सतर्क कर दिया है।
उत्तराखण्ड सीमा पर भी हलचल तेज, भेजी गई जवानों की अतिरिक्त कंपनियां

New Delhi. भारत और चीन (India China) के बीच लद्दाख (Ladakh) बॉर्डर पर जारी तनाव के बीच भारत ने चीन की हर चालबाजी से निपटने के लिए सेनाओं को हर मोर्चे पर सतर्क कर दिया है। लद्दाख में जारी तनाव का असर दूसरे सीमा क्षेत्रों पर भी पड़ रहा है। अन्य सीमाई इलाकों में भी सेना की हलचल बढ़ गई है। गृह मंत्रालय (home ministry) ने सुरक्षाबलों को भारत चीन सीमा (India China border) के साथ भारत—नेपाल और भारत—भूटान सीमा पर भी सतर्क रहने को कहा है। 

उत्तराखंड (Uttarakhand), भारत—नेपाल सीमा और सिक्किम में ट्राइ जंक्शन इलाकों में आइटीबीपी (ITBP) और एसएसबी (SSB) को अलर्ट मोड़ पर रखा गया है। सूत्रों के मुताबिक, गृह मंत्रालय में सुरक्षा व्यवस्था के सचिव और एसएसबी आइटीबीपी के अधिकारियों के साथ बैठक में चीन, नेपाल, भूटान सहित दूसरे बॉर्डर पर भी सैनिकों की तैनाती बढ़ाने का फैसला किया गया है। 

उत्तराखंड के कालापानी इलाके में भारत, चीन, नेपाल की ट्राइ जंक्शन पर यशस्वी की तीस कंपनियों को तैनात कर दिया गया है, जिनमें 3000 जवान हैं।

बता दें कि लद्दाख में भारत और चीन के बीच ताजा झड़प के बाद गृह मंत्रालय ने यह फैसला लिया है। इससे पहले भी चीन कई बार लद्दाख, अरुणाचल और उत्तराखंड के इलाकों में घुसपैठ की कोशिश कर चुका है। लिहाजा जवानों को पहले से ज्यादा चौकन्ना रहने को कहा गया है। 

वहीं, लद्दाख में सामरिक रूप से महत्वपूर्ण माने जाने वाली कालाटॉप पहाड़ी पर भारतीय सेना ने कब्जा कर लिया है, यहां से भारतीय सेना चीन के हर एक मूवमेंट पर नजर रख सकती है। हालांकि ताजा विवाद निपटाने के लिए ब्रिगेडियर कमांडर लेवल की बातचीत जारी है।

पूरी स्टोरी पढ़िए