बिहार विधानसभा चुनाव से ठीक पहले डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने मंगलवार को अचानक स्वैच्छिक सेवानिवृति ले ली। जिसके बाद पांडेय के राजनीति में उतरने की अटकलें लगायीं जाने लगीं थीं। इस बीच बुधवार सुबह गुप्तेश्वर पांडेय ने पटना में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सभी अटकलों पर विराम लगा दिया।
VRS पर गुप्तेश्वर पांडेय की सफाई, कहा- इसे राजनीति से जोड़ना गलत

Patna. बिहार विधानसभा चुनाव से ठीक पहले डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने मंगलवार को अचानक स्वैच्छिक सेवानिवृति (वीआरएस) ले ली। जिसके बाद पांडेय के राजनीति में उतरने की अटकलें लगायीं जाने लगीं थीं। इस बीच बुधवार सुबह गुप्तेश्वर पांडेय ने पटना में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सभी अटकलों पर विराम लगा दिया। गुप्तेश्वर पांडेय ने कहा कि अभी तक मैंने कोई राजनीतिक पार्टी ज्वॉइन नहीं की है। चुनाव लड़ने को लेकर भी फिलहाल कोई फैसला नहीं किया है। 

गुप्तेश्वर पांडेय ने कहा कि कई लोग मुझे ट्रोल कर रहे हैं। सुशांत मामले से जोड़कर लोग देख रहे हैं। मेरे वीआरएस से सुशांत मामले का कोई लेना देना नहीं है। मैंने सुशांत के निराश और हताश पिता की मदद की, लेकिन मेरी सीबीआई की अनुशंसा पर भी सवाल उठाए, जो सुप्रीम कोर्ट ने सही ठहरा दिया।  उन्होंने कहा कि हमने हंगामा तब किया जब हमारी पुलिस के साथ गलत हुआ। मैंने सुशांत के इंसाफ के लिये लड़ाई लड़ी। लोग कह रहे हैं कि मैने सुशांत के मामले को उठाया, उसे लोग राजनीति से जोड़ रहे हैं जो गलत है। 

गौरतलब है कि सुशांत सिंह राजपूत के मामले में पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने महाराष्ट्र सरकार को घेरा था। इसी बीच गुप्तेश्वर पांडेय के कार्यकाल पूरा होने से पहले रिटायरमेंट (वीआरएस) लेने को लेकर अटकलें काफी समय से लगाई जा रही थीं। वहीं अब उन्होंने वीआरएस के लिए आवेदन दिया, जिसे राज्य सरकार ने मंजूर कर लिया है। 

पूरी स्टोरी पढ़िए