सरकार का कोई भी आदेश विकास खण्ड माल के अधिकारियों पर लागू नहीं होता है, शायद इसीलिए यहां कोई भी अधिकारी 10 बजे से पहले कार्यालय नहीं आता है।
सरकार का आदेश अधिकारियों के ठेंगे पर, समय से नहीं पहुंच रहे कार्यालय

Lucknow. सरकार का कोई भी आदेश विकास खण्ड माल के अधिकारियों पर लागू नहीं होता है, शायद इसीलिए यहां कोई भी अधिकारी 10 बजे से पहले कार्यालय नहीं आता है। बता दें कि तीन दिन पहले ही मुख्य सचिव ने सभी अधिकारियों को 9.30 बजे कार्यालय पहुंचने का आदेश दे रखा है। उन्होंने कहा कि इस मामले में किसी भी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। 

करीब दो साल पहले भी सरकार ने सभी अधिकारियों को कार्यालय 9 बजे पहुंचने का आदेश दिया था और उस समय कहा गया था कि अधिकारी 9 से 11 बजे तक जनता की समस्याएं सुनेंगे, लेकिन अधिकांश अधिकारी उस समय भी समय से नहीं आ रहे थे और धीरे—धीरे अपने पुराने समय पर ही दस बजे के बाद कार्यालय आने लगे, जबकि कार्यालय आने का समय बदलकर 9.30 बजे कर दिया गया था।

एक बार फिर जब मुख्य सचिव ने सहकारिता भवन का स्वयं निरीक्षण किया और अधिकांश अधिकारी कार्यालय से नदारद मिले तो उनको इसके लिए सभी विभागाध्यक्षों को कड़ा पत्र लिखना पड़ा। इस पत्र को लिखने के बाद तीन दिन का समय बीत चुका है। इसके बावजूद अधिकारियों पर कोई प्रभाव नहीं पड़ रहा है। खण्ड विकास अधिकारी माल और खण्ड शिक्षा अधिकारी माल समय पर कार्यालय नहीं पहुंची​ थीं।

विकास खण्ड माल के सभी कर्मचारी दिखे नदारद

विकास खण्ड माल कार्यालय में शुक्रवार को दस बजे तक खण्ड विकास अधिकारी कार्यालय में ताला लटक रहा था। यहां पर चौकीदार और दो सफाईकर्मी उपस्थित थे। दो लिपिक दस बजे कार्यालय पहुंचे थे, जबकि खण्ड विकास अधिकारी को कार्यालय में साढ़े नौ बजे आना अनिवार्य है।

इसके अलावा सहायक विकास अधिकारी पंचायत कार्यालय में साढ़े नौ बजे उपस्थित सफाई कर्मियों ने बताया कि एडीओ पंचायत आवासों की जांच के लिए नबीपनाह न्याय पंचायत की किसी पंचायत में जांच करने के बाद कार्यालय आएंगे। उन्होंने इसकी सूचना कार्यालय को दी है।

पूरी स्टोरी पढ़िए