सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र माल के अधीक्षक डॉ. के.डी. मिश्रा ने कहा कि उनकी टीम इतना सक्रिय है कि पुलिस और गांव की निगरानी समिति के सदस्यों की सूचना पर किसी भी गांव में आने वाले प्रवासी मजदूरों को पहले जांच के लिए कहा जाता है।
स्वास्थ्य विभाग की ​सक्रियता के कारण देहात में कोरोना के मरीजों की संख्या काफी कम

Lucknow. सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र (CHC) माल के अधीक्षक डॉ. के.डी. मिश्रा (Dr. Dk Mishra) ने कहा कि उनकी टीम इतना सक्रिय है कि पुलिस (Police) और गांव की निगरानी समिति के सदस्यों की सूचना पर किसी भी गांव में आने वाले प्रवासी मजदूरों को पहले जांच के लिए कहा जाता है। इसके बाद स्कूलों में क्वारैंटाइन करा दिया जाता है। 

डॉ. के.डी. मिश्रा ने बताया कि राजधानी के आठ विकास खण्डों में से माल में सबसे अधिक प्रवासी मजदूर आए हैं। इसके बाद दूसरे नम्बर पर बीकेटी, तीसरे नम्बर पर मोहनलालगंज और चौथे स्थान पर मलिहाबाद विकास खण्ड आता हैं। उन्होंने बताया कि विकास खण्ड माल में अब तक कुल तीन प्रवासी मजदूर कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। इनमें पहला मामला भानपुर, दूसरा शाहपुर गोड़वा और यह तीसरा मामला है। इसके साथ आने वाले बच्चों सहित सभी 18 लोगों की जांच कराई गई थी, जिसमें से एक महिला की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। उसके तीन बच्चे और पति की रिपोर्ट निगेटिव आई है।

सीएचसी की टीम ने आंट गढ़ी सौंरा में चार दर्जन ग्रामीणों की जांच की

डॉ. के.डी. मिश्रा ने कहा कि आंट गढ़ी सौंरा में गांव के आस पड़ोस के करीब 50 लोगों की जांच की गई, जिनमें से​ किसी को भी बुखार नहीं था। इसके अलावा गांव के लोगों ने बताया कि वह लोग स्कूल में ही रुक गए थे, लेकिन करीब एक घंटे के लिए उनके बच्चे घर आए थे, ​लेकिन कोई उनसे मिला नहीं था। इसके बावजूद ऐहतियात के तौर पर मोहल्ले वालों की जांच की गई है।

पूरी स्टोरी पढ़िए