सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने अधिकारियों को फटकार लगायी है। साथ ही सीएम योगी ने कोविड-19 संक्रमण (COVID-19 Infection) की रोकथाम के लिए जरूरी दिशा निर्देश दिये हैं।
कोरोना के बढ़ते मामलों से सीएम योगी नाराज, DM और CMO की ली क्लास

Lucknow. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में कोरोना संक्रमण (Corona Infection) के मामले लगातार बढ़ते ही जा रहे हैं। जिसको लेकर सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने अधिकारियों को फटकार लगायी है। साथ ही सीएम योगी ने कोविड-19 संक्रमण (COVID-19 Infection) की रोकथाम के लिए जरूरी दिशा निर्देश दिये हैं।

सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने मंगलवार रात वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सभी जिलाधिकारियों, मुख्य चिकित्साधिकारियों को संबोधित किया। इस दौरान सीएम ने कहा कि जिलाधिकारी और सीएमओ अपने-अपने जिलों में सर्विलांस (Surveillance), कांटैक्ट ट्रेसिंग, डोर-टू-डोर सर्वे (Door To Door Survey) के साथ-साथ टेस्टिंग की संख्या बढ़ाएं। कोरोना की रोकथाम में यह सभी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। 

उन्होंने कहा कि पिछले पांच महीने से सरकार कोरोना से निपटने के लिए रणनीति बनाकर कार्य कर रही है। इसके अच्छे परिणाम भी मिले हैं, लेकिन अभी कोविड-19 से निपटने के लिए हमें और मजबूती से प्रयास करने होंगे।

सीएम योगी ने कहा कि सर्विलांस और डोर-टू-डोर सर्वे के माध्यम से हम कोविड संक्रमितों का पता लगाकर स्थिति नियंत्रण में कर सकते हैं। इससे मृत्यु दर में भी कमी आएगी। संक्रमित व्यक्ति का पता लगते ही उसे उसकी स्थिति के अनुसार होम आइसोलेशन अथवा एल-1, एल-2, एल-3 अस्पताल भेजा जा सकता है। अधिकारियों से उन्होंने कहा कि सभी कोविड अस्पतालों में कोविड मरीजों के इलाज के लिए सभी आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध होनी चाहिए, ताकि मरीज को सही इलाज मिल सके और वह शीघ्र ठीक हो सके।

उन्होने कहा कि कंटेन्मेंट जोन में इतनी टीमों को लगाया जाए, जो चार-पांच दिन के अंदर पूरे सर्किल को कवर कर सकें। डोर-टू-डोर सर्वे के बाद संदिग्ध मामलों में शीघ्रता के साथ रैपिड एंटीजन टेस्ट या आरटीपीसीआर टेस्ट करवाया जाए। कोविड पॉजिटिव मरीज की प्रभावी ढंग से कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग की जाए।

बता दें कि उत्तर प्रदेश में एक्टिव केसों की कुल संख्या 49575 हो गयी है। अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन के मुताबिक पिछले 24 घंटों में कोरोना के 5124 नए मामले सामने आए हैं। एक्टिव केसों की कुल संख्या 49575 है, पूरी तरह ठीक होकर डिस्चार्ज किए जा चुके लोग 1,44,754 हैं। इस प्रकार रिकवरी का प्रतिशत बढ़कर 73.33 हो गया है। अभी तक कुल 3059 लोगों की मौत हुई है।

पूरी स्टोरी पढ़िए