मॉडर्ना (Moderna) की वैक्सीन (Vaccine) का बंदरों पर ट्रायल (Trial) पूरी तरह से सफल रहा है।
कोरोना वायरस को लेकर राहत की खबर, मॉडर्ना की वैक्‍सीन का दिखा चौंकाने वाला असर

New Delhi. दुनियाभर में कोरोना वायरस (Corona Virus) संक्रमण में तेजी से फैल रहा है। जिसको रोकने के लिए लगभग सभी देश वैक्सीन (Vaccine) की खोज में जुटे हुए हैं। इसी बीच एक बड़ी राहत की खबर समाने आयी है। मॉडर्ना (Moderna)  की वैक्सीन (Vaccine) का बंदरों पर ट्रायल (Trial) पूरी तरह से सफल रहा है।

न्यू इंग्लैंड जर्नल ऑफ मेडिसिन (New England Journal of Medicine) में प्रकाशित एक अध्ययन के मुताबिक अमेरिका की बायोटिक फर्म मॉडर्ना (American biotic firm Moderna) की कोरोना की वैक्सीन (Corona Vaccine) ने बंदरों पर हुए ट्रायल (Trial) में एक मजबूत इम्यून रेस्पॉन्स (Immune response) मिला है। यह वैक्सीन बंदरों की नाक (Nose) और फेफड़ों (Lungs)  में कोरोना वायरस (Corona Virus) को आगे बढ़ने से रोकने में भी सफल रही है। इसमें सबसे अहम बात यह है कि इस वैक्सीन से संक्रमण (Infection)  दूसरों तक नहीं फैल सकेगा। 

मॉडर्ना एनिमल स्‍टडी में 8 बंदरों के तीन समहूों को या तो वैक्‍सीन दी गई या फिर प्‍लेसीबो। इसकी डोज थी 10 माइक्रोग्राम और 100 माइक्रोग्राम थी। जिन बंदरों को वैक्सीन दी गयी। उन्होंने वायरस (Virus) को मारने वाले हाइल लेवल के एंटीबॉडी (Antibody) का निर्माण किया जोकि कोशिकाओं पर आक्रमण के उपयोग के लिए सार्स-कोव-2 वायरस के एक हिस्से पर हमला करते हैं। 

स्टडी मुताबिक इस वैक्सीन ने टी- सेल (T-cell) के रूप में जानी जाने वाली एक अलग प्रतिरक्षा कोशिका (Immune cell) के उत्पादन को भी प्रेरित किया है। जिससे सभी प्रतिक्रियाओं को बढ़ावा देने में मदद मिल सकती है। लेकिन आशंका इस बात की भी है कि अंडर ट्रायल यह वैक्सीन रोग को दबाने के बजाय उल्टा असर भी दिखा सकती है।

बता दें कि इससे पहले ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी (Oxford university) की वैक्सीन का बंदरों पर ट्रायल हुआ था। लेकिन तब कुछ खास परिणाम सामने नहीं आए थे। हालांकि, इस वैक्सीन ने वायरस को जानवरों के फेफड़ों में प्रवेश करने और उन्हें बीमार होने से रोक दिया था।

पूरी स्टोरी पढ़िए