भारत सरकार ने घरेलू और अंतरराष्ट्रीय कंपनियों के 11,000 करोड़ रुपये के निवेश वाले 16 मोबाइल फोन विनिर्माण प्रस्तावों को मंगलवार को मंजूरी दे दी। इस योजना के तहत कंपनियां अगले 5 साल में लगभग 10.5 लाख करोड़ रुपये की कीमत के मोबाइल फोन बनाएंगी।
भारत सरकार ने मोबाइल फोन मैन्युफैक्चरिंग के 16 प्रस्तावों को दी मंजूरी

New Delhi. भारत सरकार ने घरेलू और अंतरराष्ट्रीय कंपनियों के 11,000 करोड़ रुपये के निवेश वाले 16 मोबाइल फोन विनिर्माण प्रस्तावों को मंगलवार को मंजूरी दे दी। इस योजना के तहत कंपनियां अगले 5 साल में लगभग 10.5 लाख करोड़ रुपये की कीमत के मोबाइल फोन बनाएंगी। एक आधिकारिक बयान के मुताबिक इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने उत्पादन से जुड़ी प्रोत्साहन योजना (PLI) के तहत 16 पात्र आवेदकों के प्रस्तावों को मंजूरी दे दी।

मंत्रालय की ओर से जारी बयान में कहा गया है, ''इस योजना के तहत स्वीकृति हासिल करने वाली कंपनियां इलेक्ट्रॉनिक्स विनिर्माण क्षेत्र में करीब 11,000 करोड़ रुपये का अतिरिक्त इंवेस्टमेंट भी लाएंगी।'' इन कंपनियों में आईफोन बनाने वाली अंतरराष्ट्रीय कंपनी Apple की कॉन्ट्रैक्ट मैन्युफैक्चरर फॉक्सकॉन होन हाई, विस्ट्रॉन और पेगाट्रॉन के प्रस्ताव शामिल हैं। इसके अलावा सैमसंग और राइजिंग स्टार के प्रस्तावों को भी सरकार ने अपनी मंजूरी दे दी है। 

वहीं, घरेलू कंपनियों में लावा, भगवती (माइक्रोमैक्स), पैजेट इलेक्ट्रॉनिक्स (डिक्सॉन टेक्नोलॉजीस), यूटीएल नियोलिंक्स और ऑप्टिमस के प्रस्ताव को भी मिली है। योजना के तहत सरकार लक्षित श्रेणी के भारत में विनिर्मित सामान की क्रमिक बिक्री पर योग्य कंपनियों को चार से छह फीसद का प्रोत्साहन दिया जाएगा।

पूरी स्टोरी पढ़िए