उत्तराखंड हादसा : चमोली ग्लेशियर आपदा में 15 लोगों की मौत, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद सहित अन्य विदेशी नेताओं ने जताया दुःख
उत्तराखंड हादसा : चमोली ग्लेशियर आपदा में 15 लोगों की मौत, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद सहित अन्य विदेशी नेताओं ने जताया दुःख

देवभूमि उत्तराखंड में बीते दिन प्राकृतिक तूफ़ान ने तबाही मचा दी। उत्तराखंड में ग्लेशियर टूट जाने के कारण चमोली में भारी  नुकसान हुआ, जिसमें की अबतक 15 लोगों के मौत की पुष्टि हो चुकी है और 100 से भी अधिक लोगों का पता नहीं चल सका है। प्लांट से लेकर पुल और कई घरों तक को इस हादसे में काफी नुकसान हुआ है। स्थानीय प्रशासन से लेकर सेना तक अब तक रेस्क्यू में जुटी हुई है और राज्य केंद्र सरकार मिलकर इस आपदा में लोगों की मदद कर रही है। ग्लेशियर फटने की घटना के बाद नदी के उफान का जायजा लेने के लिए सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत खुद मौके पर पहुंच गए । सरकार ने पुलिस, प्रशासन और आपदा प्रबंधन को आवश्यक निर्देश दे दिए हैं। हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है। सीएम ने संयम बरतने और किसी भी अफवाह पर ध्यान नहीं देने की अपील की है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह ने इस घटना पर अपना दुःख व्यक्त किया है और इसके साथ ही उन्होंने उत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत को हर संभव मदद देने का भरोसा दिया है। 

जानकारी के मुताबिक आज यानि सोमवार को चमोली के पास रैनी गांव में अब रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू हो गया है। इसी जगह पर ऋषिगंगा प्रोजेक्ट तबाह हुआ है, जहाँ कुछ लोगों के दबे होने की आशंका है। रेस्क्यू ऑपरेशन में जुटी ITBP की टीम के मुताबिक, एक सुरंग में करीब 30 लोग फंसे हैं। 300 जवानों को टनल साफ करने में लगाया गया है, स्थानीय प्रशासन का कहना है कि करीब 170 लोग लापता है। बीते दिन 12 लोग जो बचाए गए हैं, वो एक दूसरी टनल थी। 

वहीं, उत्तरप्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ के अलावा बिहार के सीएम नितीश कुमार और अन्य नेताओं ने भी हर प्रकार से सहयोग देने का भरोसा दिया है। इसके साथ ही नीतीश कुमार ने कहा, हमारे अधिकारी वहां के अधिकारियों के लगातार संपर्क में बने हुए हैं। चूंकि यह गंगा नदी का मामला है, इसलिए हमें चिंता करने की जरूरत है। 

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कहा, उत्तराखंड में ग्लेशियर टूटने से आई भीषण बाढ़ और तबाही की खबर सुनकर दुखी हूं। मैं सभी की सलामती के लिए प्रार्थना करती हूं। कांग्रेस के सभी कार्यकर्ताओं और स्वयंसेवकों वहां फंसे लोगों व राहत-बचाव कार्य में जुटे अधिकारियों की मदद करें। दूसरी ओर प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा, उत्तराखंड में ग्लेशियर फटने से आई त्रासदी की खबर बहुत दुखद है। इस मुश्किल समय में पूरा देश उत्तराखंड के निवासियों के साथ खड़ा है। 

फ्रांसीसी राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने ट्वीट में कहा, फ्रांस उत्तराखंड राज्य में ग्लेशियर फटने के चलते 100 से ज्यादा लोगों के लापता होने के बाद पूरी तरह भारत के साथ एकजुट होकर खड़ा है। हमारी संवेदनाएं लापता लोगों और उनके परिजनों के साथ हैं। अमेरिकी विदेश विभाग ने ट्वीट में कहा, हम भारत में ग्लेशियर फटने और भूस्खलन के कारण प्रभावित होने वाले लोगों के प्रति शोक प्रकट करते हैं। हम मृतकों के परिवारों और दोस्तों के दुख में शामिल हैं और घायलों के जल्द स्वस्थ होने की कामना करते हैं। भारत में जापान के राजदूत सातोशी सुजूकी ने कहा, उत्तराखंड में आज ग्लेशियर फटने के बड़े हादसे में कई निर्दोष लोगों की जान जाने और लापता होने के दुखद हादसे को लेकर मेरा हृदय बेहद दुखी है। मैं हार्दिक शोक जताता हुं और प्रार्थना करता हूं कि लापता लोगों को जल्द से जल्द बचा लिया जाएगा। हमारी सहानुभूति उत्तराखंड के लोगों के साथ है।

पूरी स्टोरी पढ़िए