कोरोना वायरस महामारी के कारण पूरे देश में लॉकडाउन लगाया गया था, अब अनलॉक की प्रक्रिया चल रही है। हालांकि संक्रमण के मामले बढ़ते ही जा रहे हैं।
कोरोना काल आपकी नौकरी चली गई है तो घबराने की जरूरत नहीं, मोदी सरकार देगी बेरोजगारी भत्ता...ये रहेंगी शर्ते

Lucknow. कोरोना वायरस महामारी के कारण पूरे देश में लॉकडाउन लगाया गया था, अब अनलॉक की प्रक्रिया चल रही है। हालांकि संक्रमण के मामले बढ़ते ही जा रहे हैं। लॉकडाउन के कारण देश की अर्थव्यवस्था को काफी नुकसान हुआ है। उद्योग धंधे, व्यापार सब चौपट हो गया है, जिससे लोगों की नौकरियां चली गई हैं। आम जनता के सामने रोजी रोटी का संकट पैदा हो गया है, लेकिन इस मोदी सरकार ने बड़ी खुशखबरी दी है। अब सरकार ने उन लोगों को बेरोजगारी भत्ता देगी, लेकिन कुछ शर्तें रहेंगी।

केंद्र की मोदी सरकार ने उन लोगों को बेरोजगारी भत्ता देने का ऐलान किया है, जिनकी 24 मार्च से 31 दिसम्बर 20220 के बीच नौकरी चली गई है। सरकार के इस फैसले से करीब 40 लाख लोगों को फायदा मिलेगा। 

बताया जा रहा है कि इस भत्ते का लाभ उन्हीं लोगों को मिल पाएगा, जो वर्कर्स एंप्लाई स्टेट इंश्योरेंस कॉर्पोरेशन यानि ईएसआईसी के तहत रजिस्टर्ड हैं। ईएसआईसी की ओर से संचालित अटल बीमित कल्याण योजना के तहत बेरोजगारी भत्ता दिया जाएगा, इसे अब 30 जून 2021 तक बढ़ा दिया गया है।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, भत्ते का लाभ वही कर्मचारी उठा सकेंगे, जो ईएसआई स्कीम से कम से कम दो सालों से जुड़े हैं। बेरोजगारी भत्ते के ​लिए अपना दावा सीधे ईएसआईसी शाखा कार्यालय में प्रस्तुत किया जा सकता है। नियोक्ता के साथ दावे का सत्यापन शाखा कार्यालय में ही किया जाएगा। सरकार ऐसे बेरोजगारों को अधिकतम तीन महीने तक भत्ता देगी। वह तीन महीने के लिए औसत सैलरी का 50 फीसद क्लेम कर सकता है। 

बता दें कि ईएसआई के तहत देश की करीब 3.5 करोड़ फैमिली यूनिट शामिल है, जिसके कारण करीब 13.5 करोड़ लोगों को कैश और मेडिकल बेनिफिट मिलता है।

पूरी स्टोरी पढ़िए