एक ओर भारत के लोग लॉकडाउन के चलते घरों में कैद हैं तो दूसरी ओर बिहार के सियासी गलियारे में लॉकडाउन के नियमों की सरेआम धज्जियां उड़ाई जा रही हैं।
लॉकडाउन उल्लंघन पर बोले तेजस्वी, "क्या अपराधियों को लॉकडाउन का विशेष पास दिया गया था?"

Patna. एक ओर भारत के लोग लॉकडाउन (lockdown extension) के चलते घरों में कैद हैं तो दूसरी ओर बिहार के सियासी गलियारे में लॉकडाउन (lockdown) के नियमों की सरेआम धज्जियां उड़ाई जा रही हैं। मामला कुछ यूं है कि बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम और राष्ट्रीय जनता दल (RJD) नेता तेजस्वी यादव (tejaswi yadav) आज गोपालगंज (gopalganj) जाने पर आमादा हैं। गाड़ियों के काफिले और सैकड़ों कार्यकर्ताओं के बीच दो गज की दूरी के वादे फुस्स हो गए हैं। पुलिस और आरजेडी के बीच तनातनी जारी लॉकडाउन के सारे नियमों को ताक पर रखा दिया गया है।

ऐसे उड़ी लॉकडाउन की धज्जियां

बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी के घर के बाहर विधायकों और पार्टी नेताओं का जमाघट लगा हुआ है। न मास्क, न सोशल डिस्टेंसिंग! लॉकडाउन के सभी नियमों की धज्जियां उड़ाई गईं। सूत्रों के मुताबिक, तेजस्वी यादव अपनी मां और पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी (Rabri Devi) और भाई तेज प्रताप यादव के साथ गोपालगंज जाने के लिए अड़े हैं। 

हालांकि, पटना पुलिस ने साफ कहा है कि किसी भी हाल में कानून तोड़ने नहीं दिया जाएगा। दरअसल गोपालगंज (gopalganj triple murder) में आरजेडी से जुड़े तीन लोगों के कत्ल पर सियासत गर्म है और आरोपों में फंसे है जेडीयू (JDU) नेता। तेजस्वी की मांग है कि आरोपी की फौरन गिरफ्तारी हो और इसी सियासी रोड पर वो पटना से गोपालगंज जाने की जिद्द पकड़े हैं।

क्या अपराधियों को लॉकडाउन का विशेष पास दिया गया था?

सूत्रों से बातचीत में तेजस्वी यादव ने कहा, "अगर सरकार काम न कर रही हो, लोग मर रहे हो, भूख से, गोलियों से, अपराधी लोगों को मार रहे हैं, ऐसे में हमारी जिम्मेदारी है कि पीड़ित के आंसू को पोंछे और सरकार की जिम्मेदारी है कि अपराधी को पकड़े।" 

लॉकडाउन के उल्लंघन के सवाल पर तेजस्वी ने कहा, "क्या अपराधियों को लॉकडाउन का विशेष पास दिया गया था? यही अपराधी-गुंडे जब हजार लोगों के साथ जुलूस निकालते है तो कार्रवाई नहीं होती है और हम जनता के प्रतिनिधि जब पीड़ित के आंसू पोछने जा रहे हैं तो रोका जा रहा है। पुलिस जेडीयू विधायक को क्यों नहीं गिरफ्तार कर रही है?"