जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री और पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) की नेता महबूबा मुफ्ती गिरफ्तार हिज्बुल मुजाहिदीन के आतंकवादी नवीद बाबू को जानती थी।
NIA ने किया खुलासा, आतंकी नवीद बाबू को जानती थीं महबूबा मुफ़्ती

जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री और पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) की नेता महबूबा मुफ्ती गिरफ्तार हिज्बुल मुजाहिदीन के आतंकवादी नवीद बाबू को जानती थी। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआइए) के मुताबिक वह उससे एक बार फोन पर बात भी कर चुकी हैं। टेरर फंडिंग मामले की जांच कर रही एनआइए टीम ने पीडीपी युवा इकाई के प्रधान वहीद-उर-रहमान पारा के खिलाफ कोर्ट में आरोपपत्र दायर करते हुए यह दावा किया कि 11 जनवरी 2020 को निलंबित डीएसपी दविंदर सिंह के साथ गिरफ्तार आतंकी नवीद और महबूबा के बीच फोन पर बातचीत हो चुकी है।

एनआइए ने एक अधिकारी ने कहा कि जांच के दौरान यह बात सामने आई है कि गिरफ्तार किए गए डीएसपी दविंदर सिंह और एचएम आतंकवादी नवीद बाबू मामले में पूर्व मुख्यमंत्री का नाम भी शामिल है। एनआइए ने गिरफ्तार पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) के युवा विंग के प्रधान वहीद-उर-रहमान पारा सहित तीन लोगों के खिलाफ एक पूरक आरोप पत्र दायर किया है, जिन्होंने कथित तौर पर इस मामले के सिलसिले में हिज्बुल मुजाहिदीन के लिए एक फाइनेंसर के तौर पर काम किया था।

आपको बता दें कि अपनी जांच रिपोर्ट में एनआइए पहले ही यह खुलासा कर चुकी है कि पीडीपी युवा नेता वहीद पारा ने आतंकी संगठन  हिज्बुल मुजाहिदीन को हथियार खरीदने के लिए दस लाख रुपये दिए गये थे।

इसके अलावा जांच में पाया गया कि पारा, दविंदर सिंह जम्मू-कश्मीर में राजनीतिक-अलगाववादी-आतंकवादी सांठगांठ को बनाए रखने में भी एक महत्वपूर्ण कड़ी था। पारा दक्षिण कश्मीर में पीडीपी के पुनरुद्धार में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता था, खासकर आतंकवादग्रस्त जिला पुलवामा में। पारा के अलावा एनआइए इसी मामले में दो अन्य शाहीन अहमद लोन और तफजुल हुसैन परिमू का नाम भी लिया है।

पूरी स्टोरी पढ़िए