बाबरी विध्वंस केस में फैसले पर कांग्रेस का कहना है कि संविधान, सामाजिक सौहार्द व भाईचारे में विश्वास रखने वाला हर व्यक्ति उम्मीद करता है कि इस "तर्कविहीन निर्णय" के विरुद्ध प्रांतीय व केंद्र सरकार हाईकोर्ट में अपील दायर करेगी।
बाबरी विध्वंस केस में फैसले पर बोली कांग्रेस, ये सुप्रीम कोर्ट के निर्णय से परे

New Delhi. बाबरी विध्वंस केस में सीबीआई कोर्ट ने बुधवार को अपना फैसला सुनाते हुए सभी 32 आरोपियों को बरी कर दिया। कोर्ट के फैसले पर प्रतिक्रिया देते हुए कांग्रेस ने इसे पिछले साल आये सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के प्रतिकूल बताया है। कांग्रेस का कहना है कि संविधान, सामाजिक सौहार्द व भाईचारे में विश्वास रखने वाला हर व्यक्ति उम्मीद करता है कि इस "तर्कविहीन निर्णय" के विरुद्ध प्रांतीय व केंद्र सरकार हाईकोर्ट में अपील दायर करेगी। 

कांग्रेस मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले में सभी दोषियों को बरी करने का सीबीआई कोर्ट का फैसला सुप्रीम कोर्ट के फैसले व संविधान की परिपाटी से परे है। सुप्रीम कोर्ट की पांच न्यायाधीशों की खंडपीठ के 9 नवंबर, 2019 के निर्णय के मुताबिक बाबरी मस्जिद को गिराया जाना एक गैरकानूनी अपराध था। लेकिन सीबीआई की विशेष कोर्ट ने सभी दोषियों को बरी कर दिया। कोर्ट का फैसला साफ तौर से सुप्रीम कोर्ट के फैसले के भी प्रतिकूल है। 

बता दें कि सीबीआई की विशेष कोर्ट ने बुधवार को बाबरी विध्वंस केस में अपना फैसला सुनाया है। कोर्ट ने आडवाणी, जोशी, उमा, कल्याण, नृत्यगोपाल दास सहित सभी 32 आरोपियों को बरी कर दिया है। जज एसके यादव ने फैसला सुनाते हुए कहा कि ये घटना पूर्व नियोजित नहीं थी, संगठन के द्वारा कई बार रोकने का प्रयास किया गया। 

पूरी स्टोरी पढ़िए