जहां एक ओर कोरोना वायरस की वजह से लॉकडाउन के चलते कंपनियों को नुकसान हो रहा है और वह अपने कर्मचारियों की सैलरी काट रही हैं, वहीं एचसीएल टेक्नोलॉजीज़ (HCL) अपने करीब डेढ़ लाख कर्मचारियों के सैलरी (Salary in HCL) नहीं काटेगा। यहां तक कि उन्हें पिछले साल का बोनस (Bonus in HCL) भी देगा, जिसका उसने वादा किया था। देश की इस तीसरी सबसे बड़ी सॉफ्टवेयर कंपनी ने पहले कहा था कि वह 15000 लोगों की नौकरी देगा। कंपनी ने सैलरी ना काटने और बोनस देने की जो वजहें बताई हैं, वह आपका दिल छू लेगी।
HCL नहीं काटेगा सैलरी, वजह जानकर आप भी इसमें नौकरी करना चाहेंगे

नहीं कैंसिंल हुआ कोई प्रोजेक्ट

कंपनी के चीफ ह्यूमन रिसोर्स ऑफिसर अपैरो वीवी ने कहा है कि कंपनी के प्रोजेक्ट कैंसिल नहीं हुए हैं, लेकिन नए प्रोजेक्ट में कुछ देरी जरूर दिख रही है। हालांकि, कंपनी को अच्छे इशारे मिल रहे हैं और करीब 5000 लोगों की जरूरत है, जिसके लिए वह रिक्रूटमेंट कर रहे हैं।

ना सैलरी कटेगी, ना बोनस रुकेगा

उन्होंने कहा कि ट्रांसपोर्टेशन और मैन्युफैक्चरिंग को काफी नुकसान हो रहा है क्योंकि क्लाइंट्स के लिए भी यह मुश्किल की घड़ी है। हालांकि, उन्होंने साफ किया कि अभी भी हायरिंग चल रही है और कंपनी अपने किसी कर्मचारी की ना तो सैलरी काटेगी, ना ही बोनस रोकेगी।

ये है वो दिल छू लेने वाली वजह

उन्होंने कहा- 'हम मानते हैं कि जो बोनस हम कर्मचारियों को दे रहे हैं, वह उनके पिछले 12 महीनों के काम का नतीजा है और हमने जो वादा अपने लोगों से किया है उसे पूरा करेंगे। यहां तक कि 2008 की मंदी के दौरान भी हमने किसी भी कर्मचारी की सैलरी नहीं काटी थी और हम अभी भी उसी संकल्प के साथ आगे बढ़ रहे हैं।'

पूरी स्टोरी पढ़िए