मुख्य समाचार
1 करोड़ में मिल रहा है यह टूटा iPhone 4S आईपीएल: क्यों नही मिला इशांत और इरफान जैसे खिलाड़ियों को कोई खरीदार होर्डिंग लगा रहे युवक की करंट से मौत नगर निगम SMS से रोकेगा फर्जीवाड़ा 10 कलाकारों की कृतियों को 3 मार्च को मिलेगा सम्मान 7वां वेतन आयोग : इन विभागों के कर्मचारियों को देर से मिली खुशी, साथ में गम भी वृद्घ दंपति की गला रेत कर हत्या टेस्ट रिपोर्ट HIV पॉजिटिव निकली तो दंपति ने की खुदकुशी मुकेश अंबानी रिलायंस जियो को लेकर कर सकते हैं आज महत्वपूर्ण ऐलान ब्राजीलियाई पुलिस ने कहा, पूर्व राष्ट्रपतियों ने जांच में बाधा डाली IPL में भी कप्तानी नहीं करेंगे धोनी,अजहर बोले- यह घटिया फैसला है अफगानिस्तान ने 85 आतंकवादियों की लिस्ट की पाकिस्तान के हवाले फिल्म इत्तेफाक की शूटिंग शुरू श्री राम कॉलेज ऑफ कॉमर्स अपनी योग्यता साबित करें: राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी लेप्टिनेंट जनरल एचआर मैक्मास्टर बने अमेरिका के नये नेशनल सिक्युरिटी एडवाइजर 102,108 एंबुलेंस घोटाले में फंसी सरकार पुलिस-नक्सली मुठभेड़ में नक्सली ढेर, हथियार बरामद ब्लाइंड टी-20 विश्वकप विजेता को खेल मंत्री विजय गोयल ने किया सम्मानित उस्तादों की शानदार पारंपरिक विरासत को अवसर उपलब्ध करा रहा है हुनर हाट पुलिस और ग्रामीणो में जमकर हुआ पथराव, मौके पर कई थानो की पुलिस पहुँची केंद्रीय वित्‍त मंत्री अरुण जेटली कल एचसीएल ग्रांट 2017 के विजेताओं को करेंगे सम्‍मानित बंगलुरु: बाइक सवार ने एयरहोस्टेस से की छेड़छाड़, कपड़े फाड़े ईरान: तीन दिवसीय सैन्याभ्यास शुरू मुख्यमंत्री की राष्ट्रीय बाल आयोग में शिकायत महाराष्ट्र में बीएमसी सहित 10 महानगरपालिकाओं के लिए वोटिंग ऑपरेशन क्लीन मनी का दूसरा चरण मार्च में होगा शुरू आस्ट्रेलिया: शॉपिंग सेंटर से टकराया विमान, 5 लोगों की मौत जम्मू-श्रीनगर: भूस्खलनों की वजह से दूसरे दिन भी राजमार्ग बंद दामाद की पिटाई से घायल ससुर ने तोड़ा दम पिता मजदूर,मां बनाती है चाय, बेटे को मिले 3 करोड़ सोनिया और राहुल गांधी ने PM मोदी पर लगाया था ये आरोप, बिहार में हुआ मुकदमा बलात्कार के आरोपी गायत्री प्रजापति के खिलाफ जांच शुरू राजस्थान के कोटा में बीजेपी MLA के पति ने मारा पुलिसवाले को थप्पड़ केरल मुख्यमंत्री ने 2010 गुंड़ों को 30 दिन के अंदर गिरफ्तार करने का दिया निर्देश बिना परमिट के चल रहे ई-रिक्शों की होगी धरपकड़ RBI- डिजिटल बैंकिंग नहीं अपनाया तो इतिहास बन जाएंगे बैंक रूस के राजदूत विताली चर्किन का संयुक्त राष्ट्र में निधन बिहार के नेताओं की भी अहम भूमिका, यूपी चुनाव में भाजपा ने झोंकी ताकत भारत अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर चाहता है हाफिज के खिलाफ कार्रवाई चीन: शेयर बाजार मजबूती के साथ खुले 23 फरवरी से इंटीग्रेटेड बिल्डिंग सॉल्यूशन प्रदर्शनी शार्ट सर्किट से लगी बसमें आग, सुरक्षित यात्री हुनर हाट देखने 20 लाख से अधिक लोग गए चीन की 2020 तक नागरिक परिवहन के लिए 74 हवाईअड्डे बनाने की योजना मुशर्रफ ने अफगानिस्तान खुफिया एजेंसी को भारत के हाथ की कठपुतली बताया

4 Views

SC- ने अनुराग ठाकुर और अजय शिर्के को पद से हटाया


NAZO ALI SHEIKH 02/01/2017 12:50

दिल्ली- सुप्रीम कोर्ट ने बीसीसीआई के लिए सुनाया बड़ा फैसला अपने फैसले में बोर्ड ने अध्यक्ष अनुराग ठाकुर और सचिव अजय शिर्के को पद से हटा दिया। डेढ़ साल से सुप्रीम कोर्ट में चल रही सुनवाई के बाद कोर्ट ने अनुराग ठाकुर को बोर्ड अध्यक्ष पद से हटा दिया। अब बीसीसीआई का कामकाज सीनियर मोस्ट वाइस प्रेसीडेन्ट और ज्वाइंट सेकरेट्री देखेगें।

अनुराग पर आरोप है कि उन्होंने कोर्ट से झूठ बोला और सुधार प्रक्रिया में बाधा पहुंचाने की कोशिश की। हालांकि अनुराग ने इन आरोपों से इनकार किया है।

पिछली सुनवाई में सर्वोच्च न्यायालय ने उन्हें चेतावनी देते हुए कहा था कि झूठी गवाही के लिए बोर्ड अध्यक्ष को सज़ा क्यों ना दी जाए। उन पर कोर्ट की अवमानना का केस चलाया जा सकता है अगर बिना शर्त माफ़ी ना मांगी तो उन्हें जेल भी जाना पड़ सकता है।

वैसे ये नौबत इसलिए आई क्योंकि बोर्ड अपने रुख पर कायम रहा। बोर्ड के मुताबिक लोढ़ा कमेटी की ज़्यादा सिफारिशें मान ली गई हैं, लेकिन कुछ बातें व्यवहारिक नहीं है जिसको लेकर गतिरोध बना रहा। मसलन अधिकारियों की उम्र और कार्यकाल का मुद्दा, अधिकारियों के कूलिंग ऑफ़ पीरियड का मुद्दा और एक राज्य, एक वोट की सिफ़ारिश बोर्ड को मंज़ूर नहीं है।

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि 18 जुलाई 2016 को जो आदेश दिए गए थे बीसीसीआई के दो अधिकारियों ने उसका पालन नहीं किया इसलिए उन्हें उनके पद से हटाया जाता है।

इस फैसले पर जस्टिस लोढ़ा ने कहा कि यह तो होना ही था। अब जाकर हुआ है। हमने सुप्रीम कोर्ट में तीन रिपोर्ट फाइल की थीं। इसके बावजूद इन्हें लागू नहीं किया गया। उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट का आदेश दूसरे खेल संघों के लिए एक तरह होना चाहिए। यह क्रिकेट की जीत है। प्रशासक आएंगे और जाएंगे पर इस फैसले से क्रिकेट का भला होगा।

सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में कहा है कि बीसीसीआइ और इसके राज्यों के संघ के अधिकारी आदेश का पालन करने में असफल रहे हैं।

02-Jan-2017SC-_ने_अनुराग_ठ1



कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया