मुख्य समाचार
ATM से निकले चूरन वाले नोट शेयर बाजारों के शुरुआती कारोबार में तेजी CM के. चंद्रशेखर ने सरकारी खर्च पर बालाजी मंदिर में चढ़ाए साढ़े 5 करोड़ के गहने एक महीने से सीवेज का पानी पिला रहा जलकल चीन ने दक्षिण चीन सागर में किया प्रयोगशाला का निर्माण चौथे दौर में 12 जिलों की 53 विधानसभा सीटों पर मतदान कल रिलायंस जियो (Jio) की पेशकश से नाराज वोडाफोन (Vodafone) ने कहा- रूल तोड़ा ब्रिटेन में जनगणनाः सिख और कश्मीरियों के लिए नई श्रेणी बनाने पर विचार फरक्का बांध को बंद करने की नीतीश कुमार की मांग पर सुशील मोदी ने उठाए सवाल मुख्यमंत्री- तिरुपति बालाजी को चढ़ाएंगे 5.45 करोड़ रुपये के गहने जयशंकर बीजिंग यात्रा पर, चीनी अधिकारी से की मुलाकात 1 करोड़ में मिल रहा है यह टूटा iPhone 4S आईपीएल: क्यों नही मिला इशांत और इरफान जैसे खिलाड़ियों को कोई खरीदार होर्डिंग लगा रहे युवक की करंट से मौत नगर निगम SMS से रोकेगा फर्जीवाड़ा 10 कलाकारों की कृतियों को 3 मार्च को मिलेगा सम्मान 7वां वेतन आयोग : इन विभागों के कर्मचारियों को देर से मिली खुशी, साथ में गम भी वृद्घ दंपति की गला रेत कर हत्या टेस्ट रिपोर्ट HIV पॉजिटिव निकली तो दंपति ने की खुदकुशी मुकेश अंबानी रिलायंस जियो को लेकर कर सकते हैं आज महत्वपूर्ण ऐलान ब्राजीलियाई पुलिस ने कहा, पूर्व राष्ट्रपतियों ने जांच में बाधा डाली IPL में भी कप्तानी नहीं करेंगे धोनी,अजहर बोले- यह घटिया फैसला है अफगानिस्तान ने 85 आतंकवादियों की लिस्ट की पाकिस्तान के हवाले फिल्म इत्तेफाक की शूटिंग शुरू श्री राम कॉलेज ऑफ कॉमर्स अपनी योग्यता साबित करें: राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी

8 Views

8 हजार रैग पिकर उठाएंगे घरों से कूड़ा


NAZO ALI SHEIKH 04/01/2017 10:45

लखनऊ- शहर कितना साफ है, सफाई के मानकों पर हम और नगर निगम कितने खरे हैं/ ऐसे कई सवालों के जवाब क्वॉलिटी काउंसिल ऑफ इंडिया की तीन सदस्यीय टीम बुधवार से शनिवार तक तलाशेगी। स्वच्छ भारत मिशन (एसबीएम) के तहत एक लाख और इससे अधिक आबादी वाले 500 शहरों में राजधानी किस नंबर पर टिकती है, यह भी इसी से पता चलेगा।

मंगलवार को टीम के दौरे से एक दिन पहले नगर निगम के अफसर चिह्नित किए गए इलाकों में मुस्तैद रहे। अफसरों को उम्मीद है कि नंबरों की रेस में राजधानी अच्छा करेगी, क्योंकि पिछले साल 73 शहरों के बीच राजधानी 28वें नंबर पर थी।

दिनभर जुटे रहे अफसर- सुबह से ही जोनल और इंजीनियरिंग विभाग के अधिकारी-कर्मचारी अमीनाबाद, हजतरगंज, चौक, पत्रकापुरम, भूतनाथ, तेलीबाग, चारबाग और यहियागंज को चमकाने में जुटे रहे। जेसीबी और डंपरों की मदद से कूड़ाघरों को साफ किया गया। हुसैनगंज स्थित कूड़ाघर से दिन में तीन बार कूड़ा उठाया गया। यहां पर कई दिन से कूड़ा नहीं उठाया गया था। हुसैनगंज में रहने वाले प्रवीण अवस्थी के मुताबिक यहां की बदबू से पूरा मोहल्ला परेशान रहता है। रोजाना ऐसी ही सफाई हो तो बेहतर रहता। अफसरों ने शाम को भी

शहर की सफाई का टेस्ट आज से

सिटी स्टेशन के पास मंगलवार को झाड़ू लगाते सफाईकर्मी। हम ऐसे समूहों से बात कर रहे हैं। इनका रजिस्ट्रेशन कर कूड़े के निस्तारण की प्रक्रिया में लगाया जाएगा। उन्हें वर्दी और आई-डी कार्ड देकर कार्यक्षेत्र का विभाजन भी किया जाएगा। 500 शहरों से सफाई के मामले में होगा मुकाबला क्वॉलिटी काउंसिल ऑफ इंडिया की टीम चार दिन तक करेगी शहर का सर्वे

पत्रकारपुरम, अमीनाबाद और यहियागंज में सफाई करवाई।

यहां हालात पहले जैसे- चारबाग स्टेशन के आसपास के इलाके को भी देखने अधिकारी जाएंगे। इसके बाद भी नगर निगम ने स्टेशन के पास के इलाकों और कूड़ाघर की सफाई नहीं करवाई। यही हाल वन विभाग मुख्यालय, लालबाग और चिड़ियाघर के आसपास भी रहा।

चौपड़ अस्पताल के पास से दोपहर दो बजे तक कूड़ा नहीं उठा, हालांकि कैसरबाग बस अड्डे और चारबाग बस स्टॉप के आसपास सफाई हुई। मेयर के घर से 500 मीटर की दूरी पर एलयू के ट्रांजिट गेस्ट हाउस के पास से कूड़ा शाम तक नहीं उठा था।

1300 टन कचरा रोज निकलता है शहर से 700 टन कचरा कंपोस्टेबल होता है 80 टन के करीब पॉलिथिन और प्लास्टिक होती है 500 टन कचरा मलबे का होता है 8000 के करीब रैग पिकर हैं शहर में, इनमें 5000 से ज्यादा असम के हैं नगर निगम रजिस्ट्रेशन कर सबको देगा ट्रेनिंग, वर्दी और आईडी कार्ड, स्वच्छ भारत मिशन के तहत कवायद

शहर में कूड़ा बीनने वाले 8 हजार लोगों (रैग पिकर्स) को नगर निगम कूड़ा कलेक्शन में लगाएगा। नगर निगम ने स्वच्छ भारत मिशन के तहत यह कवायद शुरू की है। मध्य प्रदेश और केरल की तर्ज पर नगर निगम रैग पिकर्स को आई-डी कार्ड के साथ वर्दी और कूड़ा बीनने के उपकरण भी देगा। ये लोग घरों से कूड़ा तो उठाएंगे ही, साथ ही उनसे निकलने वाली उपयोगी वस्तुओं को बेचकर कर कमाई भी करेंगे। इससे नगर निगम पर आर्थिक बोझ कम होगा और लोगों को फायदा भी होगा।

निस्तारण एजेंसी को बेचेंगे कूड़ा- रैग पिकर्स पड़ावघरों पर कूड़े की छंटाई करते हैं। गोमतीनगर, अलीगंज और जानकीपुरम के आसपास के कुछ इलाकों के घरों से कूड़ा भी लेते हैं। इन सभी को प्रशिक्षण देकर नगर निगम डोर-टु-डोर कूड़ा कलेक्शन में लगाएगा।

केरल और मध्यप्रदेश की तर्ज पर काम- सेंटर फॉर साइंस ऐंड एन्वायरमेंट की स्टडी में केरल की अलफुजा नगर पालिका को देश के सबसे साफ शहरों की सूची में रखा गया है। अलफुजा की तर्ज पर केरल सरकार ने रैग पिकर्स और कबाड़ियों को डेटा बैंक बनाया है। रैगपिकर्स उपयोगी कूड़ा लेकर उसे बेचते हैं। बाकी को कंपोस्ट में बदला जाता है।

मध्यप्रदेश के सभी नगर निगमों में भी इसी तरह काम शुरू किया गया है, जहां प्लास्टिक कचरे को दो रुपये प्रतिकिलो की दर से एनजीओ की मदद से खरीदा जाता है और जलौनी के रूप में सीमेंट एजेंसियों को बेचा जाता है।

132017102202PM8_हजार_रैग_पिकर1



कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया