मुख्य समाचार
ATM से निकले चूरन वाले नोट शेयर बाजारों के शुरुआती कारोबार में तेजी CM के. चंद्रशेखर ने सरकारी खर्च पर बालाजी मंदिर में चढ़ाए साढ़े 5 करोड़ के गहने एक महीने से सीवेज का पानी पिला रहा जलकल चीन ने दक्षिण चीन सागर में किया प्रयोगशाला का निर्माण चौथे दौर में 12 जिलों की 53 विधानसभा सीटों पर मतदान कल रिलायंस जियो (Jio) की पेशकश से नाराज वोडाफोन (Vodafone) ने कहा- रूल तोड़ा ब्रिटेन में जनगणनाः सिख और कश्मीरियों के लिए नई श्रेणी बनाने पर विचार फरक्का बांध को बंद करने की नीतीश कुमार की मांग पर सुशील मोदी ने उठाए सवाल मुख्यमंत्री- तिरुपति बालाजी को चढ़ाएंगे 5.45 करोड़ रुपये के गहने जयशंकर बीजिंग यात्रा पर, चीनी अधिकारी से की मुलाकात 1 करोड़ में मिल रहा है यह टूटा iPhone 4S आईपीएल: क्यों नही मिला इशांत और इरफान जैसे खिलाड़ियों को कोई खरीदार होर्डिंग लगा रहे युवक की करंट से मौत नगर निगम SMS से रोकेगा फर्जीवाड़ा 10 कलाकारों की कृतियों को 3 मार्च को मिलेगा सम्मान 7वां वेतन आयोग : इन विभागों के कर्मचारियों को देर से मिली खुशी, साथ में गम भी वृद्घ दंपति की गला रेत कर हत्या टेस्ट रिपोर्ट HIV पॉजिटिव निकली तो दंपति ने की खुदकुशी मुकेश अंबानी रिलायंस जियो को लेकर कर सकते हैं आज महत्वपूर्ण ऐलान ब्राजीलियाई पुलिस ने कहा, पूर्व राष्ट्रपतियों ने जांच में बाधा डाली IPL में भी कप्तानी नहीं करेंगे धोनी,अजहर बोले- यह घटिया फैसला है अफगानिस्तान ने 85 आतंकवादियों की लिस्ट की पाकिस्तान के हवाले फिल्म इत्तेफाक की शूटिंग शुरू श्री राम कॉलेज ऑफ कॉमर्स अपनी योग्यता साबित करें: राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी

41 Views

साल 2015 रहा अमेरिका के लिए खास, बेचे सबसे ज्यादा हथियार


PRADEEP CHANDRA JOSHI 28/12/2016 09:14

1227201684002PMसाल_2015_रहा_अम1

वॉशिंगटन: दुनियां के सबसे ताकत बर देश अमेरिका के लिए साल 2015 खास रहा क्यों कि इस वर्ष अमेरिका ने सबसे ज्यादा हथियार बेचे थे। इस वर्ष हथियारों की बिक्री में अमेरिका प्रथम स्थान पर रहा था। इस वर्ष अमेरिका ने करीव 40 बिलियन डालर के हथियार को बेचा। वहीं अमेरिका के कड़े प्रतिद्वन्दी फ्रांस जो कि दूसरे नम्बर पर रहा उससे यह आंकड़ा दुगने से भी कहीं अधिक था।

 वहीं हथियारों की खरीद के मामले में विकाशशील देशों में पाकिस्तान और कतर सबसे आगे रहे। दोनों ही देशों ने लगभग 17-17 बिलियन डालर के हथियार खरीदे। इसके बाद क्रमश: मिस्र, सऊदी अरब का स्थान है। इस लिस्ट को लाइब्रेरी ऑफ कांग्रेस की डिविजन कांग्रेजनल रिसर्च सर्विस ने तैयार किया है। वैश्विक हथियार बाजार में एक और वर्चस्वशाली देश रूस को हथियारों के आर्डर में मामूली कमी आई है।

ये भी जानें- रूस ने भारत के साथ अपने द्विपक्षीय संबधों को और मजबूत करने की इच्छा जाहिर की

न्यूयॉर्क टाइम्स ने अध्ययन का जिक्र करते हुए कहा है वैश्विक तनाव और जोखिम से इसके कम होने के कुछ संकेत जरूर मिले हैं। हथियारों का कुल वैश्विक कारोबार 2014 के 89 अरब डॉलर से घटकर 2015 में 80 अरब डॉलर के करीब हो गया।

हथियारों को बेचने के मामले में साल 2014 में कुल 89 बिलियन डालर के हथियार बेचे थे। जब कि 2015 में 80 अरब डालर के हथियारों को बेचा गया। इसी क्रम में अमेरिका और फ्रांस की बिक्री बड़ी अमेरिका की कुल बिक्री में 4 अरब डालर जबकि फ्रांस की बिक्री में 9 अरब डालर की बढ़तरी हुई। चीन ने भी साल 2015 में 6 अरब डालर के हथियार बेचे। जब कि इससे पहले ये आंकड़ा 3 अरब डालर था।

ये भी जानें-भारत के साथ दोस्ती से दूर रहे पाकिस्तान- हाफिज सईद

 



कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया