मुख्य समाचार
ATM से निकले चूरन वाले नोट शेयर बाजारों के शुरुआती कारोबार में तेजी CM के. चंद्रशेखर ने सरकारी खर्च पर बालाजी मंदिर में चढ़ाए साढ़े 5 करोड़ के गहने एक महीने से सीवेज का पानी पिला रहा जलकल चीन ने दक्षिण चीन सागर में किया प्रयोगशाला का निर्माण चौथे दौर में 12 जिलों की 53 विधानसभा सीटों पर मतदान कल रिलायंस जियो (Jio) की पेशकश से नाराज वोडाफोन (Vodafone) ने कहा- रूल तोड़ा ब्रिटेन में जनगणनाः सिख और कश्मीरियों के लिए नई श्रेणी बनाने पर विचार फरक्का बांध को बंद करने की नीतीश कुमार की मांग पर सुशील मोदी ने उठाए सवाल मुख्यमंत्री- तिरुपति बालाजी को चढ़ाएंगे 5.45 करोड़ रुपये के गहने जयशंकर बीजिंग यात्रा पर, चीनी अधिकारी से की मुलाकात 1 करोड़ में मिल रहा है यह टूटा iPhone 4S आईपीएल: क्यों नही मिला इशांत और इरफान जैसे खिलाड़ियों को कोई खरीदार होर्डिंग लगा रहे युवक की करंट से मौत नगर निगम SMS से रोकेगा फर्जीवाड़ा 10 कलाकारों की कृतियों को 3 मार्च को मिलेगा सम्मान 7वां वेतन आयोग : इन विभागों के कर्मचारियों को देर से मिली खुशी, साथ में गम भी वृद्घ दंपति की गला रेत कर हत्या टेस्ट रिपोर्ट HIV पॉजिटिव निकली तो दंपति ने की खुदकुशी मुकेश अंबानी रिलायंस जियो को लेकर कर सकते हैं आज महत्वपूर्ण ऐलान ब्राजीलियाई पुलिस ने कहा, पूर्व राष्ट्रपतियों ने जांच में बाधा डाली IPL में भी कप्तानी नहीं करेंगे धोनी,अजहर बोले- यह घटिया फैसला है अफगानिस्तान ने 85 आतंकवादियों की लिस्ट की पाकिस्तान के हवाले फिल्म इत्तेफाक की शूटिंग शुरू श्री राम कॉलेज ऑफ कॉमर्स अपनी योग्यता साबित करें: राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी

8 Views

लोगों की सहूलियत के लिए दिन-रात किया काम, फिर भी हुए बदनाम


PRADEEP CHANDRA JOSHI 04/01/2017 11:55

03-Jan-2017लोगों_की_सहूलिय1

  • यूपी बैंक एम्प्लाइज यूनियन के बैनर तले प्रदर्शन
  • बैंक कर्मचारियों ने आरबीआई के सामने किया प्रदर्शन

लखनऊ: नोटबंदी के बाद लोगों की सहूलियत के लिए दिन-रात काम किया। 12 महीने में होने वाला काम एक महीने में ही कर दिखाया। ओवर टाइम की घोषणा भी की गई थी। इसके बावजूद सराहना और ओवर टाइम तो दूर उल्टा अपमान मिल रहा है। यूपी बैंक एम्प्लाइज यूनियन के बैनर तले मंगलवार को आरबीआई के सामने हुए प्रदर्शन में उक्त बातें बैंक कर्मचारियों ने कहीं।

प्रदर्शनकारियों का आरोप है कि आरबीआई की गलतियों का खामियाजा उन्हें भुगतना पड़ रहा है। सुबह लगभग 10 बजे प्रदर्शनकारी जुटने लगे थे। आरबीआई अधिकारियों ने भीड़ देख गेट बंद करवाने के साथ सुरक्षा बढ़ा दी। यूनियन के पदाधिकारी बैंक के बाहर ही धरने पर बैठ गए। दोपहर में लंच के समय तमाम बैंक कर्मी भी पहुंच गए। करीब आधे घंटे बैंक कर्मियों ने नारों से विरोध व्यक्त किया।

बैंक कर्मचारी दीप कुमार वाजपेयी ने कहा कि प्रधानमंत्री ने ओवर टाइम देने का ऐलान किया था। कर्मचारियों ने पूरे महीने दिन-रात काम किया। इसके बावजूद ओवर टाइम तो दूर काम की प्रशंसा तक नहीं की गई। आरबीआई लगातार कहता रहा कि करंसी की कमी नहीं है, जबकि बैंकों को मांग के अनुसार पर्याप्त नोट नहीं मिले। ऐसे में ग्राहकों के गुस्से का सामना बैंककर्मियों को करना पड़ा।

उपमहामंत्री सुरेश कुमार संगतानी ने कहा कि प्राइवेट बैंकों को ज्यादा करंसी दी गई। घपले प्राइवेट बैंकों में हुए और बदनामी सभी कर्मचारियों की हुई। जबकि आरबीआई ने प्राइवेट बैंकों को ज्यादा करंसी दी। ऐसे में बैंकों को दिए गए नोटों का हिसाब सार्वजनिक किया जाना चाहिए।

 प्रदर्शन में ललित श्रीवास्तव, अनिल कुमार श्रीवास्तव, आरके अग्रवाल, परमानंद, रतन कुमार, राजेश श्रीवास्तव, शकील अहमद, एके मिश्रा, केके मिश्रा, एके सिंह गांधी, अशोक अग्रवाल, वीके श्रीवास्तव, नदीम अहमद, आशीष कुमार, अजय श्रीवास्तव, एचएस शर्मा, कमल कुमार, दिलीप कुमार, अरुण वर्मा, विभा माथुर सहित कई बैंक कर्मचारी और पदाधिकारी मौजूद रहे।



कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया