मुख्य समाचार
आलू, प्याज और टमाटर के दामों में गिरावट की कोई उम्मीद नही जाट आंदोलन-हरियाणा सरकार देगी मुआवजा जैसलमेर में बम गिरने से मचा हड़कंप, पुलिस मौके पर कुशीनगर-बिजली न मिलने के कारण मतदान का बहिष्कार सब्जियों से सीखें ईजी पेंटिंग तीसरे चरण के VIP उम्मीद्वार विवाह की लग्न शुरु होने से सोने-चांदी के दाम में तेजी इंदौर में सार्क देशों की लोकसभा अध्यक्षों का सम्मेलन जारी साईकिल पर सवार दिखे अखिलेश इन्साफ और हक की लड़ाई के लिये एकजुट होकर वोट करे जनता : ओलमा कमेटी तमिलनाडु विधानसभा में भारी हंगामे के बीच सीएम पलानीसामी ने जीता विश्वास मत प्रियंका गांधी के बेटे का आंखों का इलाज हुआ एम्स में मौत से जंग लड़ रहा सीआरपीएफ का चीता भारत में 2020 तक खसरे को खत्म करने और रूबेला को नियंत्रित करने की योजना ऑनलाइन फ्रॉड का मामला,लखनऊ लाया गया अनुभव मित्तल शहाबुद्दीन को कड़ी सुरक्षा के लिए दिल्ली की तिहाड़ जेल में भेजा गया चैरिटी शो पर रैंप वॉक करेंगे जीतेंद्र-अरबाज CM नीतीश शहाबुद्दीन को फूटी आंख नहीं सुहाते, लालू को बताया था अपना नेता 30 सालों से मठरी केन्द्र की गुणवत्ता बरकरार :कविता भटनागर बलरामपुर अस्पताल में कर्मचारियों का हंगामा, नहीं मिला वेतन अमेरिका में आया तूफान, सैकड़ों उड़ानें रद्द, राजमार्ग बंद पटना-हाजीपुर का सफर अब आसान हुआ, तेजस्वी ने किया पीपा पुल का उद्घाटन सार्वजनिक किया जाए नाथूराम गोडसे का बयान- CIC ने दिया आदेश टूटी पटरी पर रात-भर दौड़ती रही ट्रेनें, फिर टला बड़ा रेल हादसा मेरठ-HT लाइन की चपेट में आने से महिला समेत 2 की मौत ई-वीजा लेकर भारत आने वाले विदेशी पर्यटकों को मिलेगा मुफ्त सिमकार्ड पाक सीनेट में पास हुआ हिंदू मैरिज बिल, हिंदुओं का पहला पर्सनल लॉ ऋचा ने कहा, गैंग्स ऑफ वासेपुर से बहुत कुछ सीखा तमिलनाडु विधानसभा 3 बजे तक के लिए स्थगित कैलिफोर्निया में तूफान से सैकड़ों उड़ानें रद्द, एक की मौत शाओमी के नए वाइस प्रेसिडेंट बने मनु कुमार जैन पुरस्कार जीतने के लिए फिल्में नहीं बनाता : अरबाज खान भारत का ज्वालामुखी हुआ सक्रिय, 150 साल से था शांत टैक्स चोरी पर 100 खबरें, टेनिस पर चुप मिडिया :सानिया मिर्जा कैरेबियाई नेताओं ने ट्रंप की आव्रजन नीति पर चिंता जाहिर की एडोल्फ हिटलर के फोन की नीलामी GST परिषद की बैठक आज शहाबुद्दीन-पप्पू यादव के बाद क्या बिहार के ये 5 बाहुबली भी पहुंचेंगे तिहाड़? ट्रिपल मर्डर आरोपी उदयन ने बनवाया था मां का फर्जी सर्टिफिकेट किंगफिशर की संपत्तियों की नीलामी के लिए आरक्षित मूल्य घटाया नसीरुद्दीन शाह के साथ काम करने का सपना साकार : सयानी गुप्ता नोटबंदी के असर से मंदिर भी नहीं रहें अछूते,महंगे हो सकते हैं दर्शन अपना संस्मरण प्रकाशित नहीं करूंगा : मिक जैगर अनुप्रिया-कलराज ने की जनसभा बाइक चोरी में पकड़े गए दो बदमाश

13 Views

भोपाल गैस कांड: 32 वर्ष बाद आज भी ताजा है त्रासदी के जख्म


RAM SINGH RAWAT 02/12/2016 11:24

02-Dec-2016भोपाल_गैस_कांड1

2 दिसंबर, 1984 एक आम दिन की तरह था, किसी ने शायद ही सोचा होगा कि इस आम दिन की रात मौत की एक धुंध हजारों की जान लेने वाली है.

यूनियन कार्बाइड के प्लांट नंबर ‘सी’ में जहरीली मिथाइल आइसोसाइनेट गैस के साथ पानी मिलना शुरू हुआ जिससे टैंक में दबाव पैदा हुआ और टैंक खुल गया.

टैंक खुलते ही जहरीली मिथाइल गैस रिसते हुए हवा में घुलना शुरू हो गई और रात को सुकून की नींद सोए लोग मौत की नींद सोते चले गए.

सबसे बुरी तरह प्रभावित हुई कारखाने के पास स्थित झुग्गी बस्ती. वहां हादसे का शिकार हुए वे लोग थे जो रोज़ी-रोटी की तलाश में दूर-दूर के गांवों से आ कर वहां रह रहे थे.

जब प्रभावित लोग अस्पताल पहुँचे तो ऐसी स्थिति में शुरू में डॉक्टरों को ठीक से पता ही नहीं था कि क्या किया जाए क्योंकि उन्हें मिथाइल आइसोसाइनेट गैस से पीड़ित लोगों के इलाज का कोई अनुभव नहीं था.

अस्पताल पहुँचे लोगों में कुछ अस्थाई अंधेपन का शिकार थे, कुछ का सिर चकरा रहा था और साँस की तकलीफ तो सब को थी.

भोपाल गैस कांड ने कई पीड़ियों को बर्बाद कर दिया. गैस कांड से प्रभावित लोगों के परिवार में आज जन्मजात विकृति के साथ पैदा हो रहे हैं.

तीन दशक से ज्यादा बीत जाने पर भी इस त्रासदी के लिए जिम्मेदार सात मुजरिम आजाद घूम रहे हैं. वहीं इसके मुख्य आरोपी वॉरेन एंडरसन को सरकार उसकी मौत होने तक भारत नहीं ला सकी.



कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया