मुख्य समाचार
ATM से निकले चूरन वाले नोट शेयर बाजारों के शुरुआती कारोबार में तेजी CM के. चंद्रशेखर ने सरकारी खर्च पर बालाजी मंदिर में चढ़ाए साढ़े 5 करोड़ के गहने एक महीने से सीवेज का पानी पिला रहा जलकल चीन ने दक्षिण चीन सागर में किया प्रयोगशाला का निर्माण चौथे दौर में 12 जिलों की 53 विधानसभा सीटों पर मतदान कल रिलायंस जियो (Jio) की पेशकश से नाराज वोडाफोन (Vodafone) ने कहा- रूल तोड़ा ब्रिटेन में जनगणनाः सिख और कश्मीरियों के लिए नई श्रेणी बनाने पर विचार फरक्का बांध को बंद करने की नीतीश कुमार की मांग पर सुशील मोदी ने उठाए सवाल मुख्यमंत्री- तिरुपति बालाजी को चढ़ाएंगे 5.45 करोड़ रुपये के गहने जयशंकर बीजिंग यात्रा पर, चीनी अधिकारी से की मुलाकात 1 करोड़ में मिल रहा है यह टूटा iPhone 4S आईपीएल: क्यों नही मिला इशांत और इरफान जैसे खिलाड़ियों को कोई खरीदार होर्डिंग लगा रहे युवक की करंट से मौत नगर निगम SMS से रोकेगा फर्जीवाड़ा 10 कलाकारों की कृतियों को 3 मार्च को मिलेगा सम्मान 7वां वेतन आयोग : इन विभागों के कर्मचारियों को देर से मिली खुशी, साथ में गम भी वृद्घ दंपति की गला रेत कर हत्या टेस्ट रिपोर्ट HIV पॉजिटिव निकली तो दंपति ने की खुदकुशी मुकेश अंबानी रिलायंस जियो को लेकर कर सकते हैं आज महत्वपूर्ण ऐलान ब्राजीलियाई पुलिस ने कहा, पूर्व राष्ट्रपतियों ने जांच में बाधा डाली IPL में भी कप्तानी नहीं करेंगे धोनी,अजहर बोले- यह घटिया फैसला है अफगानिस्तान ने 85 आतंकवादियों की लिस्ट की पाकिस्तान के हवाले फिल्म इत्तेफाक की शूटिंग शुरू श्री राम कॉलेज ऑफ कॉमर्स अपनी योग्यता साबित करें: राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी

35 Views

नोटबंदी के 16 साइड इफेक्ट्स: लालू यादव


FIROZ QUIRAISHI 24/12/2016 17:46

1224201651412AMनोटबंदी_के_16_स1पटना। लालू यादव ने प्रधानमंत्री के नोटबंदी के मुद्दे पर आलोचना करते हुए 16 साइड इफेक्ट्स बताये है, लालू यादव ने कहा कि नोटबंदी के साइड इफेक्ट्स तो बहुत है  उन्होंने ने 16 साइड इफेक्ट्स गिनाते हुए लिखा कि नोटबंदी से जहां 22 करोड़ लोगों की नौकरी छीन गई और देश में सैकड़ों मौत हो गई, वहीं दूसरी तरफ अर्थव्यवस्था चौपट हो गई। व्यापार खत्म है ,व्यापारी त्रस्त और किसान, मजदूर एवं गरीब परेशान हैं।

उन्होंने कहा कि देश में गैर संगठित क्षेत्र में कार्यरत 94 प्रतिशत लोगों का रोजगार  खतरे में है और रोजगार, उत्पादन, खपत और निवेश में भारी कमी। आर्थिक व्यवस्था ठप हो गई है और फुटकर व्यापारी मरने की कगार पर है । राजद अध्यक्ष ने तंज कसते हुए कहा कि नकदी में प्रयोग होने वाला हर नोट काला धन नहीं होता, ज्यादातर वह पैसा है, जिस पर टैक्स दिया जा चुका होता है।

उन्होंने कहा कि कालाधन और भ्रष्टाचार खत्म नहीं होगा। वर्तमान सरकार काला धन निकलवाने में असफल रही है। तीस करोड़ रुपए के नकली नोट खत्म करने के लिए 42000 करोड़ नए नोट छापने का देश पर खर्च लाद दिया गया।

भारत में केवल चार फ़ीसदी कालाधन नकदी में है और बाकी 96 फीसदी काले धन को छुपाने के लिए नोट बनाने का नाटक किया गया है। उन्होंने आरोप लगाया कि पिछले ढ़ाई सालों में सरकार ने लाखों- करोड़ काला धन विदेशों में भिजवाने के बाद नोटबंदी का दिखावा किया है।

 



कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया