मुख्य समाचार
ATM से निकले चूरन वाले नोट शेयर बाजारों के शुरुआती कारोबार में तेजी CM के. चंद्रशेखर ने सरकारी खर्च पर बालाजी मंदिर में चढ़ाए साढ़े 5 करोड़ के गहने एक महीने से सीवेज का पानी पिला रहा जलकल चीन ने दक्षिण चीन सागर में किया प्रयोगशाला का निर्माण चौथे दौर में 12 जिलों की 53 विधानसभा सीटों पर मतदान कल रिलायंस जियो (Jio) की पेशकश से नाराज वोडाफोन (Vodafone) ने कहा- रूल तोड़ा ब्रिटेन में जनगणनाः सिख और कश्मीरियों के लिए नई श्रेणी बनाने पर विचार फरक्का बांध को बंद करने की नीतीश कुमार की मांग पर सुशील मोदी ने उठाए सवाल मुख्यमंत्री- तिरुपति बालाजी को चढ़ाएंगे 5.45 करोड़ रुपये के गहने जयशंकर बीजिंग यात्रा पर, चीनी अधिकारी से की मुलाकात 1 करोड़ में मिल रहा है यह टूटा iPhone 4S आईपीएल: क्यों नही मिला इशांत और इरफान जैसे खिलाड़ियों को कोई खरीदार होर्डिंग लगा रहे युवक की करंट से मौत नगर निगम SMS से रोकेगा फर्जीवाड़ा 10 कलाकारों की कृतियों को 3 मार्च को मिलेगा सम्मान 7वां वेतन आयोग : इन विभागों के कर्मचारियों को देर से मिली खुशी, साथ में गम भी वृद्घ दंपति की गला रेत कर हत्या टेस्ट रिपोर्ट HIV पॉजिटिव निकली तो दंपति ने की खुदकुशी मुकेश अंबानी रिलायंस जियो को लेकर कर सकते हैं आज महत्वपूर्ण ऐलान ब्राजीलियाई पुलिस ने कहा, पूर्व राष्ट्रपतियों ने जांच में बाधा डाली IPL में भी कप्तानी नहीं करेंगे धोनी,अजहर बोले- यह घटिया फैसला है अफगानिस्तान ने 85 आतंकवादियों की लिस्ट की पाकिस्तान के हवाले फिल्म इत्तेफाक की शूटिंग शुरू श्री राम कॉलेज ऑफ कॉमर्स अपनी योग्यता साबित करें: राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी

5 Views

अमेरिका ने कहा भारत और अमेरिका के रक्षा संबंध हैं शानदार और प्रगतिशील


PRADEEP CHANDRA JOSHI 04/01/2017 07:57

03-Jan-2017अमेरिका_ने_कहा_1

वाशिंगटन: अमेरिका ने एक बार फिर भारत और अमेरिका संबंधों को शानदार और प्रगतिशील माना है अमेरिका ने कहा कि भारत और अमेरिका रक्षा संबंध एक शानदार पथ की ओर बढ़ रहे हैं। और यह अगले राष्ट्रपति के शासन काल में भी इसी तरह बने रहेगे।

अमेरिका के पेंटागन में प्रेस सचिव पीटर कुक ने एक संवाददाता सम्मेलन में बोलते हुए यह बातें कहीं उन्हों ने संवाददाताओं को बताया , ‘‘ रक्षा मंत्री (एश्टन कार्टर) की इसके (भारत-अमेरिका) लिए प्रतिबद्धता साफ है। हमें लगता है कि भारत के साथ रक्षा संबंध एक शानदार पथ पर आगे बड़ रहे हैं और अगले प्रशासन में यह और आगे जायेंगे।

भारत और अमेरका के संबंधों में जिस तरह की प्रगति हुई है उससे शारी दुनियां की निगाहें आने वाले समय में इन पर होंगी। अभी हाल ही में भारत और अमेरिका के बीच कई रक्षात्मक समझोते हुए हैं। भारत और अमेरिका ने द्विपक्षीय सामरिक संबंधों को बढ़ावा देते हुए एक विशद साजो-सामान आदान-प्रदान करार पर हस्ताक्षर किये थे।

 इस रक्षात्मक सहयोग के दोरान दोनों देशों की सेनाएं एक-दूसरे की सुविधाओं एवं ठिकानों का उपकरणों की मरम्मत एवं आपूर्ति को सुचारु बनाये रखने के लिए उपयोग कर सकेंगे। इससे उनके संयुक्त अभियानों की दक्षता में इजाफा होगा। रक्षा मंत्री मनोहर पर्रीकर एवं अमेरिकी रक्षा सचिव एश्टन कार्टर ने ‘साजो-सामान आदान-प्रदान सहमति करार’ (एलइएमओए) पर हस्ताक्षर किये थे।

भारत-अमेरिका के इस रक्षा सहयोग समझौते से चीन और पाकिस्तान की नींद उड़ गई थी। हालांकि चीन इसे ज्यादा तवज्जो नहीं देते हुए उसने इस करार को दोनों देशों के बीच सामान्य सहयोग बताया था जबकि इसको लेकर चीन का मीडिया भारत से बेहद खफा था। उसने ये भी चेताया था कि अमेरिकी खेमे में जाने की भारत की कोशिश से चीन, पाकिस्तान और रूस की नाराजगी बढ़ सकती है।

अमेरिका के पुराने हो चुके शस्त्र नियंत्रण कानून के तहत भारत को प्रौद्योगिकी हस्तांतरण पर रोक के बारे में पूछने पर कुक ने कहा कि स्पष्ट रूप से इसके कई पहलू हैं। ’’ भारत के मित्र के तौर पर जाने जाने वाले और एक जबरदस्त भारत-अमेरिका रक्षा संबंध में विश्वास रखने वाले कार्टर अकेले अमेरिकी रक्षा मंत्री हैं जिन्होंने कई बार भारत की यात्रा की है। उन्होने भारत और अमेरिका के संबंधों को और आगे तक जाने की उम्मीद जताई है।



कमेंट करें

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपकी प्रतिक्रिया