पाकिस्तान को सोमवार सुबह आतंकवाद का भीषण दंश झेलना पड़ा। ग्रेनेड और स्वचालित रायफलों से लैस चार आतंकवादियों ने कराची में शेयर बाजार की बिल्डिंग पर सुबह करीब दस बजे हमला बोल दिया।
कराची शेयर बाजार पर हमला, मुठभेड़ में 10 मरे

--शिव प्रसाद सिंह 


पाकिस्तान को सोमवार सुबह आतंकवाद का भीषण दंश झेलना पड़ा। ग्रेनेड और स्वचालित रायफलों से लैस चार आतंकवादियों ने कराची में शेयर बाजार की बिल्डिंग पर सुबह करीब दस बजे हमला बोल दिया। वहां मौजूद सुरक्षा बलों के साथ उनकी जबरदस्त मठभेड़ हुई जिसमें चारों आतंकवादी ढेर हो गए लेकिन इस आपरेशन में प्रारंभिक समाचारों के मुताबिक एक सब इंस्पेक्टर, चार सिक्यॉरिटी गाड्र्स और एक अन्य व्यक्ति को भी अपनी जान गंवानी पड़ी। 

पाकिस्तान के जियो न्यूज को एक चश्मदीद ने बताया- 'वे (आतंकवादी) गाड़ी में आए थे। आतंकवादी हमले के लिए जैसे ही उतरे, उनकी पुलिस के साथ मुठभेड़ हो गई। उनमें से दो को पुलिस ने घेरकर मार दिया। दो जख्मी हालत में स्टॉक एक्सचेंज के अंदर दाखिल होने की कोशिश कर रहे थे जिन्हें बाद में मार गिराया गया। एक्सचेंज के पीछे से दो हमलावरों के शव बाहर निकाले जा चुके हैं। सिंध रेंजर्स ने भी स्टॉक एक्सचेंज में घुसे चारों आतंकियों के मारे जाने की पुष्टि की है।

पाकिस्तानी मीडिया के मुताबिक आतंकवादियों ने पहले ग्रेनेड फेंका फिर बाद में फायरिंग भी की। इस हमले में पांच लोग मार गए हैं। मुठभेड़ के दौरान शेयर बाजार की इमारत में फंसे लोगों को पीछे के दरवाजे से बाहर निकाला गया। पाकिस्तान स्टॉक एक्सचेंज पाकिस्तान का इकलौता स्टॉक एक्सचेंज है, जहां शेयर बाजार का सारा काम होता है। उसकी तीन शाखाएं कराची, लाहौर और इस्लामाबाद में हैं। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक जिस वक्त स्टॉक एक्सचेंज में हमला हुआ था उस वक्त काफी लोग अंदर मौजूद थे। आतंकी पार्किंग के पास से एक गाड़ी से आए थे और बैरिकेड के पास ही गाड़ी रोककर अंदर घुस आए। 

आज सोमवार का दिन था इसलिए शेयर बाजार छुट्टी के बाद खुल रहा था, ऐसे में वहां काफी लोग जमा थे। आतंकी पूरी तरह से अंदर घुसकर फायरिंग नहीं कर पाए। इसलिए फायरिंग की जद में आसपास के इलाके ही आ पाए। न्यूज एजेंसियों के मुताबिक सुबह 10.05 मिनट पर पहली गोली चली थी और दस मिनट तक फायरिंग चलती रही। इस संबंध में ध्यान देने वाली बात यह है कि कराची को पाकिस्तान की आर्थिक राजधानी माना जाता है। यही कारण है कि इस हमले को काफी बड़ा हमला माना जा रहा है क्योंकि पाकिस्तान का पूरा शेयर बाजार अब यहां से ही चलता है। ऐसे में अगर आतंकवादी यहां हमला करने में कामयाब हो गए हैं तो यह सरकार के लिए बड़ी चुनौती है। यह आतंकवादी हमला ऐसे वक्त पर हुआ है जब दो दिन पहले ही पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने संसद में अलकायदा के प्रमुख आतंकी ओसामा बिन लादेन को शहीद बताया था।

पीएसएक्स यानी शेयर बाजार के निदेशक आबिद अली हबीब ने घटना की आलोचना करते हुए कहा कि पाकिस्तान स्टॉक एक्सचेंज में एक दुर्भाग्यपूर्ण घटना हुई है। आतंकी पार्किंग एरिया से आए और सभी पर खुलेआम गोलीबारी करने लगे।