पराठे के बाद अब रेडी-टू-ईट पॉपकॉर्न खाना भी महंगा हो जाएगा क्योंकि यह अब जीएसटी के दायरे में आ गया है। अथॉरिटी ऑफ एडवांस रूलिंग की गुजरात बेंच ने एक बार फिर रेडी-टू-ईट चीजों पर जीएसटी लगाना शुरू कर दिया है।
पराठे के बाद अब पॉपकॉर्न खाना भी हुआ महंगा, देना होगा इतने प्रतिशत टैक्स

Gujarat. पराठे के बाद अब रेडी-टू-ईट पॉपकॉर्न (Ready-to-eat popcorn) खाना भी महंगा हो जाएगा क्योंकि यह अब जीएसटी (GST) के दायरे में आ गया है। अथॉरिटी ऑफ एडवांस रूलिंग (authority of advance ruling) की गुजरात बेंच ने एक बार फिर रेडी-टू-ईट चीजों पर जीएसटी लगाना शुरू कर दिया है। नए नियम के अनुसार मॉल और रेस्टोरेंट (malls and restaurants) में बिकने वाले रेडी-टू-ईट पॉपकॉर्न पर 18 प्रतिशत जीएसटी टैक्स (18 percent GST tax) देना होगा। एएआर की गुजरात बेंच ने कहा कि पॉपकॉर्न को बनाने के लिए मक्का के दानों को गर्म करके उसमें नमक, मक्खन जैसी दूसरी चीजें मिलाई जाती हैं। इसलिए इस पर 18 फीसदी जीएसटी लगेगा।

पराठे पर भी लगा टैक्स

इससे पहले मालाबार पराठे (Malabar Paratha) के एक मामले में एएआर ने कहा था इस पर 18 प्रतिशत टैक्स देना होगा। एएआर का कहना है कि रेडी-टू-ईट रोटी पराठा (ready-to-eat roti paratha) नहीं है। खाने से पहले इसे और प्रोसेस करने की जरूरत होती है इसलिए ऐसे में इस पर 18 प्रतिशत का जीएसटी देना होगा। 

एएआर ने कहा  था कि  खाखरा, (Khakhara) सादी चपाती और रोटी जैसी पूरी तरह तैयार चीजों का इस्तेमाल करने के लिए इन्हें और तैयार करने की जरूरत नहीं होती। ये पराठा या मालाबार पराठा इन उत्पादों से अलग है। इसके अलावा ये आम उपभोग के और जरूरी कैटेगरी की चीजें नहीं हैं। इनके इस्तेमाल के लिए उन्हें और प्रोसेसिंग की जरूरत होती है। लिहाजा पराठा जैसी खाने की चीजों पर 18 फीसदी जीएसटी लगाना बिल्कुल जायज है।

बिस्कुट कंपनियां बढ़ा सकती हैं दाम

इस दौरान बिस्कुट कंपनियां (Biscuit Companies) अपने प्रोडक्ट के दाम बढ़ाने की तैयारी में हैं। ट्रेड प्रमोशन काउंसिल ने कहा कि पाम ऑयल के दाम बढ़ने से बिस्कुट कंपनियों की लागत काफी बढ़ गई है। उनके मुनाफे में कमी आ गई है। मैन्युफैक्चरिंग (Manufacturing) की लागत भी काफी बढ़ गई है। अगर क्वालिटी के साथ इन प्रोडक्ट्स की वर्ल्ड मार्केट (World Market) में तुलना बरकरार रखनी है तो बिस्कुट के दामों को बढ़ाना होगा। 2019 में 18.1 करोड़ डॉलर का बिस्कुट का निर्यात हुआ था। भारत में बिस्कुट की कीमत काफी कम है।