संदेसारा घोटाला मामले में कांग्रेस के दिग्गज नेता अहमद पटेल (Congress leader Ahmed Patel) घिरते नजर आ रहे हैं।
संदेसारा घोटाला मामले में कांग्रेस नेता अहमद पटेल से पूछताछ, ईडी कर रही कंपनी मालिकों से संबंध की जांच

New Delhi. संदेसारा घोटाला मामले में कांग्रेस के दिग्गज नेता अहमद पटेल (Congress leader Ahmed Patel) घिरते नजर आ रहे हैं। प्रवर्तन निदेशालय (Enforcement Directorate) की टीम शनिवार 27 जून को अहमद पटेल के दिल्ली के घर पहुंची, जहां उनसे संदेसारा ग्रुप (Sandesara Group) से जुड़े कुछ खास सवाल किए गए।

 संदेसारा ग्रुप पर हजारों करोड़ रुपए के घोटाले का आरोप (accused of scam) है और इस ग्रुप के मालिक संदेसारा बंधु देश से फरार हो चुके हैं। प्रवर्तन निदेशालय ने ये केस 2017 में दर्ज किया था और ग्रुप की कंपनी स्टर्लिंग बायोटेक (company Sterling Biotech) पर मुकदमे से इस मामले पर शुरुआत की गई थी। 

दामाद और करीबियों से भी पूछताछ

ईडी सूत्रों के अनुसार इस मामले की शुरुआती जांच के दौरान तत्कालीन ईडी निदेशक कर्नल सिंह (ED Director Colonel Singh) के निर्देशन में जांच आगे बढ़ी थी और ईडी ने गगन धवन नाम (Gagan Dhawan) के शख्स को गिरफ्तार किया था।गगन धवन कांग्रेसी नेता अहमद पटेल का करीबी बताया जाता है।

बता दें कि गगन धवन को गिरफ्तार करने के बाद रिमांड पर लिया गया और इस पूछताछ के दौरान कई अहम बातें सामने आईं जिसके बाद कांग्रेस नेता अहमद पटेल भी इसमें घिर गए। ईडी इसी कारण अहमद पटेल और उनके दामाद इरफान सिद्दीकी से पूछताछ कर रही है। 

इरफान सिद्दीकी (Irfan Siddiqui) पर यह आरोप है कि संदेसारा ग्रुप ने उन्हें दक्षिण दिल्ली के पॉश इलाके में एक मकान दिया है। यह मकान ग्रुप की कंपनी के नाम पर ही बताया जा रहा है। इरफान सिद्दीकी पेशे से वकील बताए जाते हैं। पूछताछ के दौरान यह बात भी सामने आई की संदेसारा ग्रुप अहमद पटेल के कार्यालय में काम करने वाले कुछ लोगों को अपनी तरफ से सैलरी भी देता है। ईडी ने इसके चलते कई जगहों पर छापेमारी भी की। 

जांच के दौरान यह भी सामने आया की नोटों से भरा हुआ बैग अहमद पटेल के बेटे फैजल पटेल (Faizal Patel) तक भी पहुंचाए गए थे। यही वजह है जिसकी जांच की आंच सीबीआई के तत्कालीन विशेष निदेशक राकेश अस्थाना (Director Rakesh Asthana) तक भी पहुंची थी और यह आरोप भी लगे थे कि इस ग्रुप के निदेशकों के राकेश अस्थाना से भी संबंध हैं। हालांकि राकेश अस्थाना ने इन तमाम आरोपों को झुठला दिया था। 

अभी तक के ताजा हालात के मुताबिक इस मामले में संदेसारा ग्रुप के निदेशक नितिन संदेसारा और चेतन (Nitin Sandesara and Chetan) देश से फरार हो चुके हैं और अब तक उनके बारे में कोई अहम जानकारी नहीं मिल पाई है कि वह कहां मौजूद हैं। वहीं ईडी की जांच के दौरान इस मामले के तार कांग्रेस नेता अहमद पटेल से जुड़ते नजर आए हैं, इसलिए उन्हें नोटिस भेजकर पूछताछ के लिए बुलाया गया था लेकिन वह कभी ईडी ऑफिस नहीं गए और उनकी तरफ से बताया गया कि कोरोना चल रहा है और उन्हें कई तरह की बीमारियां हैं। ऐसे में वह ईडी के दफ्तर में पेश नहीं हो सकते हैं। इसके बाद अधिकारियों ने उनके घर पर जाकर ही पूछताछ करने का फैसला लिया। आज यानि शनिवार की सुबह लगभग 11:00 बजे ईडी की एक टीम अहमद पटेल के घर पहुंची और उनसे पूछताछ का सिलसिला शुरू किया गया।